“मैं नही बनूंगा प्रधानमन्त्री” – मुलायम सिंह यादव

समाजवादी पार्टी के संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने अचानक फिर से दिया है ऐसा बयान जो शायद पहले से ही कइयो को पता था . मुलायम सिंह यादव ने आने वाले लोकसभा चुनाव में अपनी दावेदारी ठोंकी है लेकिन उन्होंने अपनी पुरानी सीट आजमगढ़ को छोड़ कर नए जगह से दावेदारी ठोंकी है .. यद्दपि इस बीच में उन्हें कई चुनौतियों का सामना भी करना पड़ा था जिसमे सबसे बड़ी चुनौती अपने खुद के ही घर परिवार से मिली थी जब अखिलेश ने खुद से खुद को राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया था .

चुनाव से पहले राष्ट्रगीत पर बवाल.. फिर बोला एक नेता- “मेरा धर्म नहीं दे रहा इजाजत”

ज्ञात हो कि कभी नरेंद्र मोदी को प्रधानमन्त्री पद पर फिर से आने की शुभकामनाएं देने वाले मुलायम सिंह यादव ने एक और बयान दिया है . उन्होंने खुद को प्रधानमन्त्री पद से अलग करने का एलान किया है और कहा है कि वो प्रधानमन्त्री की दौड़ में शामिल नहीं हैं . सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को मैनपुरी सीट से नामांकन दाखिल किया। बता दें कि इस दौरान सपा मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी साथ रहे।

अमित शाह को गले लगाकर उद्धव ठाकरे ने कही ऐसी बात जो खुशी की लहर बनकर दौड़ गई हिंदूवादी संगठनों में

लाव लश्कर के साथ अपना नामांकन दाखिल करने के बाद समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि इस चुनाव में समाजवादी पार्टी को बहुमत मिलेगा। इसके साथ ही पीएम पद का फैसला चुनाव के बाद लिया जाएगा। हालांकि इस दौरान उन्होंने खुद को पीएम पद की दौड़ से बाहर बताया और कहा- मैं सिर्फ अभी लोकसभा का उम्मीदवार हूं।

हिन्दू आतंकवाद को लेकर राहुल गांधी पर पीएम मोदी का करारा वार.. बोले- हिन्दुओं को आतंकी बताने वाले अपनी सीट छोड़कर भाग रहे हैं”

Share This Post