Breaking News:

मोदी ने सत्ता में अपना लक्ष्य बताया आतंकियों को सातवें पाताल से भी निकाल कर मारना.. अब मुलायम ने भी बताया कि उन्हें सत्ता मिलती तो वो क्या करते ?

दोनों ही भारत के राजनेता हैं और दोनों एक ही संसद में चुन कर आये हैं . एक गुजरात का मुख्यमंत्री रह चुका है तो दूसरा उत्तर प्रदेश का लेकिन दोनों की सोच में बहुत अंतर है . दोनों के लक्ष्य में भी बहुत अंतर है . एक की सोच कुछ और है और दूसरे की सोच कुछ और ही . फिलहाल कुछ समय पहले नरेन्द्र मोदी ने एक विशाल जनसमूह के आगे अपनी सोच को खुल कर बताया था जो काफी चर्चा में रही थी , अब समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भी अपनी सोच को रखा है दुनिया के आगे .

ज्ञात हो कि इस समय भारत युद्ध के मुहाने पर खड़ा था और युद्ध का एक हिस्सा पूरा भी हो चुका है जब भारत के युद्धक विमानों ने पाकिस्तान पर बमबारी कर डाली और कई आतंकियों को मौत की नींद सुला दिया . उसके बाद से आज तक भारत में ऐसा ही माहौल है जिसमे किसी से भी सवाल करने पर वो पाकिस्तान को नेत्तोनाबूत करने की बात करता है . हैरानी की बात ये रही कि इस बार महाशिवरात्रि के अवसर पर भी शिवभक्तों ने सुदर्शन न्यूज के कैमरे पर अपनी इच्छा पाकिस्तान की तबाही माँगा .

उसी सब को ध्यान में रखते हुए मोदी ने सार्वजानिक रूप से स्वीकार किया था कि वो देश को आतंकवाद मुक्त बना कर रहेगे . उन्होंने कहा था कि आतंकी भले ही 7 पाताल के नीचे क्यों न हों , उनको खोज निकाला जाएगा और खत्म कर दिया जाएगा.. यद्दपि उसके कुछ समय बाद मुलायम सिंह यादव ने भी अपनी इच्छा बता ही दी . लेकिन सत्ता में रहने के बाद उनकी इच्छा में आतंकवाद , पाकिस्तान , सेना , पायलट आदि कहीं से कुछ भी नहीं रहा . उनकी इच्छा का इस से कोई वास्ता भी नहीं था .

अपनी सत्ता में रहने के बाद की इच्छा को व्यक्त करते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि अगर वे सत्ता में रहते तो राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता लालू प्रसाद यादव आज जेल में न होते। किसी समय उन्होंने ही उनके प्रधानमंत्री बनने का विरोध किया था, लेकिन अब रिश्तेदार हैं। मुलायम सिंह यादव मंगलवार को पार्टी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। मुलायम सिंह यादव कहने लगे कि एक समय समान विचारधारा के दलों का बहुमत था। उनका प्रधानमंत्री बनने का नंबर आया तो एक नेता ने विरोध कर दिया। वह आज रिश्तेदार हैं, इसलिए क्या नाम लें। आप लोग समझ ही गए होंगे। अब वह जेल में हैं। अगर हमारे हाथ में सत्ता होती तो कभी ऐसा न हुआ होता।

Share This Post