वामपंथ और तृणमूल मिला रहे हैं हाथ.. भाजपा के खिलाफ एक और महागठबंधन

भारतीय जनता पार्टी के विजयी रथ को रोकने के लिए देश में एक और महागठबंधन बनाने के प्रयास किये जा रहे हैं. हालाँकि ये अलग बात है कि लोकसभा चुनाव 2019 के सियासी महासंग्राम में भी बीजेपी को रोकने के लिए तमाम राज्यों में महागठबंधन बनाये गये थे लेकिन देश की जनता ने इन सभी को खारिज करते हुए भारतीय जनता पार्टी को वोट किया तथा जीत दिलाई. इसका परिणाम ये रहा कि उत्तर प्रदेश में सपा तथा बसपा का महागठबंधन टूट भी गया.

हबीबुर्रहमान उड़ा देना चाहता था उस ट्रेन को, जिसमें 8 दिन के बच्चे से लेकर 80 साल के वृद्ध तक सफ़र करते थे

अब बीजेपी के खिलाफ नया महागठबंधन बनाने की कोशिश पश्चिम बंगाल में शुरू की जा रही है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने अपनी विरोधी कांग्रेस और सीपीआई (एम) से भाजपा के खिलाफ एकजुट होने को कहा है. बुधवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा में ममता ने दोनों पार्टियों से भाजपा के खिलाफ मिलकर लड़ने की बात कही है. ममता ने दोनों पार्टियों से अपील की है कि बीजेपी को रोकने के लिए वाम दलों तथा कांग्रेस को तृणमूल का साथ देना चाहिए.

बलात्कार के समान है हलाला, मोदी से निवेदन है कि बहु विवाह और हलाला को तत्काल क़ानून बना कर खत्म करें – स्वाति मालीवाल

राज्य विधासनभा में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख तथा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, राज्य के लोगों ने भाटपारा में देखा कि भाजपा को वोट देने का क्या नतीजा हो रहा है. ममता बनर्जी से कहा कि मुझे लगता है कि टीएमसी, कांग्रेस, सीपीआई हम सबको बीजेपी के खिलाफ साथ आने की जरूरत है. इसका ये मतलब नहीं कि हम राजनीतिक रूप से कोई गठजोड़ करें लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर जो हमारे साझा मुद्दे हैं, उन पर हम साथ आ सकते हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post