पश्चिम बंगाल में राजनैतिक भगदड़… ममता का सांसद, कांग्रेसी और वामपंथी विधायक भाजपा में शामिल

आने वाले लोकसभा चुनावों से ठीक पहले जिस प्रकार से राजनैतिक घमासान देखने को मिल रहा है उस से चुनावी डंका और तेजी से बजता दिखाई दे रहा है . कई दल ऐसे हैं जो फिर से सरकार बनाने या सरकार में बने रहने के लिए संघर्ष करेंगे लेकिन कुछ दल ऐसे भी हैं जो कभी सरकार हुआ करते थे लेकिन अब वो अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ने के लिए खड़े हुए हैं . एक बार फिर से इस भयानक उठापटक के बीच सबका ध्यान गया है ममता बनर्जी शासित पश्चिम बंगाल की तरफ .

ज्ञात हो कि तमाम पार्टियों को चित होने जैसा झटका तब लगा जब उन पार्टियों में भगदड़ देखने को मिली .. भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के लिए तृणमूल कांग्रेस के सासंद और कांग्रेसी के साथ साथ भाजपा और मोदी के प्रबल विरोधी रहे वामपंथी नेता ने भी भाजपा की शरण में आने का एलान कर दिया है .इसके बाद राजनैतिक हलको से सवाल उठने शुरू हो गये हैं कि क्या ये बंगाल में कमल खिलने की आहट मानी जाय या ममता राज के अस्त की शुरुआत .

पश्चिम बंगाल में टीएमसी सांसद अनुपम हाजरा कांग्रेस विधायक दुलाल चंद्र बर व सीपीएम विधायक खगेन मुर्मू भी भाजपा में शामिल हो गए। कभी ममता के बेहद करीबी रहे सांसद हजारा ने बंगाल में केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भाजपा और पार्टी के दिग्गज नेताओं की उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। प्रदेश भाजपा के शीर्ष नेता मुकुल रॉय लगातार तमाम नेताओं से संपर्क में हैं। उन्होंने हाजरा से हाल ही में मुलाकात की थी, जिसके बाद अनुपम हाजरा भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार हो गए हैं।

Share This Post