कांग्रेस में छोड़ रहे हैं तमाम बड़े नाम अपनी- 2 जिम्मेदारी ? राहुल गाँधी के बाद अब ज्योतिरादित्य सिंधिया

इसको कांग्रेस के लिए अच्छा नहीं बल्कि बुरा समय कहा जाएगा क्योकि उसके तमाम बड़े नाम जिस प्रकार से अपनी जिम्मेदारियों से दूर होना चाह रहे हैं उसके बाद सवाल उठने लगा है कि अब कांग्रेस किस के भरोसे ? राहुल गाँधी ने जिस प्रकार से अध्यक्ष पद से खुद को अपने ट्विटर एकाऊंट के माध्यम से इशारो में दूर कर लिया उसके बाद ये माना जा रहा था कि कई और बड़े नाम भी राहुल गाँधी का अनुसरण करेंगे और अंत में ठीक वही हुआ .. इसको भगदड़ भी कहा जा सकता है .

कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में हिन्दू महिला को मिली धमकी- “घर छोड़ कर भाग जाओ, यहाँ बनेगी मस्जिद वर्ना तेरी बेटी का होगा बलात्कार”

विदित हो कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी इस्तीफ़ा न दें इसके लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय मुख्यालय के आगे एक कांग्रेस समर्पित व्यक्ति ने फांसी तक लगाने का प्रयास किया लेकिन फिर भी बात नहीं बनी .. अब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी राहुल गाँधी का अनुसरण किया है .. ज्योतिरादित्य ने लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के बाद आखिरकार कांग्रेस के महासचिव पद से इस्तीफ़ा दे दिया .. इस से पहले कई कद्दावर नाम भी अपना अपना इस्तीफा दे चुके हैं जिसके बाद कांग्रेस में नई जिम्मेदारी कौन लेगा इस पर मंथन चल रहा .

7 जुलाई- बलिदान दिवस कारगिल के महायोद्धा कैप्टन विक्रम बत्रा.. इस्लामिक आतंक से लड़ते इस परमवीर के अंतिम शब्द थे – “जय माता दी”

सबसे ख़ास बात ये है कि संसद में राहुल गाँधी के बगल बैठने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद चुनाव हार गये हैं और राहुल गाँधी का अमेठी का किला भी स्मृति इरानी ने ढहा दिया है जो शायद कांग्रेस के चुनावी इतिहास की सबसे बड़ी पराजयों में से एक है . राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है.उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पार्टी महासचिव के पद से इस्तीफा दे दिया.  मुख्यमंत्री कमलनाथ पहले ही पीसीसी चीफ के पद से इस्तीफा दे चुके हैं. दीपक बाबरिया, विवेक तन्खा सहित कई पदाधिकारी भी सभी पदों से इस्तीफा दे चुके हैं.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post