कभी संजय दत्त, जया बच्चन को प्रचार में उतारने वाली पार्टी ने एक भोजपुरी कलाकार को कहा नाचने वाला

कभी संजय दत्त कभी जया प्रदा तो कभी जया बच्चन.. ये सभी फ़िल्मी सितारे उस पार्टी के चहेते रहे हैं. यहाँ तक कि जया बच्चन तो अभी उस पार्टी की राज्यसभा सांसद हैं तो जया प्रदा अब बीजेपी से जुड़ चुकी हैं. ये भी खबरें सामने आई थी कि ये पार्टी वर्तमान में चल रहे लोकसभा चुनावों में भी संजय दत्त को टिकट देना चाहती थी लेकिन संजय दत्त ने इनकार कर दिया. अब उसी पार्टी के नेताओं ने भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार को नाचने वाला करार दिया है.

गठबंधन से ज्यादा तेज टूट रहा लालू यादव का परिवार.. तेजस्वी के प्रत्याशी के खिलाफ तेज ने दिखाया प्रताप

हम बात कर रहे हैं समाजवादी पार्टी की.. ज्ञात हो कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश की आज़मगढ़ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. बीजेपी ने यहाँ से भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव “निरहुआ” को टिकट दिया है. 8 अप्रैल को निरहुआ ने आज़मगढ़ में रोड शो किया तो उनके समर्थन में जनसैलाब उमड़ पड़ा. निरहुआ के समर्थन में उमड़ी भीड़ को देखकर सपाईयों के होश फाख्ता हो गये. आज़मगढ़ की राजनैतिक फिजा भी इस बात की ओर इशारा कर रही है कि अखिलेश के लिए निरहुआ न सिर्फ कड़ी चुनौती पेश कर रहे हैं बल्कि वह अखिलेश को हराने की स्थिति में भी हैं.

सत्य साबित हो रहे सावरकर.. नामांकन से पहले सोनिया गांधी ने की हिन्दू मंदिर में पूजा जबकि कांग्रेस ने कभी हिन्दुओं को बताया था आतंकी

इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद सपाईयों ने निरहुआ को निशाना बनाना शुर कर दिया है तथा नाचने वाला करार दिया है. आज़मगढ़ के स्थानीय सपाईयों का कहना है कि अखिलेश यादव के मुकाबले निरहुआ का चुनाव लड़ना अखिलेश का अपमान है. सपाईयों का कहना है कि भाजपा ने एक नाचने वाले को टिकट देकर अ​खिलेश यादव का अपमान किया है.

सपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि बीजेपी ने के अखिलेश यादव के सम्मान को ठेस पहुंचाने के लिए एक ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया है जिसका कोई सम्मान नहीं है तथा जो नाचता है. भाजपा ने बड़े राष्ट्रीय नेता के खिलाफ एक नाचने गाने वाले को चुनावी मैदान में उतारकर आजमगढ़ की जनता को विकास के इरादों से भटकाने का काम किया है, अखिलेश का अपमान किया है. जो सपा कभी संजय दत्त, जया प्रदा से प्रचार कराती रही है तथा आज भी जया बच्चन सपा के ही साथ हैं..वो सपा निरहुआ को नाचने वाला बता रही है.

मुजफ्फरनगर से बड़ी खबर.. बुर्के की आड़ में कराई जा रही फर्जी वोटिंग

वो निरहुआ जिसने अपने डीएम पर भोजपुरी सिनेमा में अपना मुकाम बनाया, लोगों के बीच अपनी छबि बनाई. निरहुआ अखिलेश यादव की तरह किसी मुख्यमंत्री का बेटा नहीं है, इसलिए निरहुआ का अखिलेश यादव के सामने खड़ा होना अखिलेश यादव का अपमान हो गया? और अगर निरहुआ नाचने वाला है तो जया प्रदा कौन हैं जो सपा की राज्यसभा सांसद हैं? जिस तरह से सपाईयों ने पहले निरहुआ के काफिले पर पत्थर फेंके तथा अब उनको नाचने वाला बताकर उनका उपहास करने की कोशिश कर रहे हैं, वो इस बात की संकेत हो सकता है कि आज़मगढ़ में निरहुआ अखिलेश पर भारी पड़ रहे हैं.

#Vote4Nation महाअभियान के सारथी बने सुरेश चव्हाणके जी.. नागपुर के NIT कालेज में छात्र- छात्राओं को मतदान के लिए किया जागरूक

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post