सवर्ण आरक्षण के खिलाफ उठी पहली आवाज..मायावती व अखिलेश के इस साथी ने एलान किया RSS से लड़ाई का एलान

ये वही नेता हैं जिन्होंने अभी कुछ समय पहले ही एलान किया था कि अगर उनकी सरकार आई तो उनकी सबसे पहली प्राथमिकता होगी मुसलमानो की मजबूती..अब इन्होंने दिया है अतिचर्चित सवर्ण आरक्षण पर बड़ा बयान जो बन रहा एक वर्ग में असंतोष का कारण .

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव रविवार को बीएसपी प्रमुख मायावती से मिलने पहुंचे। उनकी इस मुलाकात को 2019 के लोकसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। न्यूज18 इंडिया के मुताबिक, लखनऊ में मायावती के आवास पर तेजस्वी ने उनसे मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने 10 फीसद आरक्षण के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज ऐसा माहौल है जहां वह बाबा साहब के संविधान को खत्म कर नागपुर का कानून लागू करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, ‘ये विचारधारा की लड़ाई है, हमारी मोदी जी से निजी दुश्मनी नहीं है और न ही हम उन्हें हराना चाहते हैं। हमने हमेशा से बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ लड़ाई लड़ी है। हम देश का संविधान बचाना चाहते है।.’ तेजस्वी ने आगे कहा कि बिहार और उत्तर प्रदेश में बीजेपी एक भी सीट नहीं जीत पाएगी। यूपी में एसपी-बीएसपी का गठबंधन सारी सीटें जीतेगा।

हाल ही में एसपी-बीएसपी ने अपने गठबंधन का ऐलान किया है। कहा जा रहा है कि इस गठबंधन में आरजेडी को भी दिलचस्पी है।और इसी के चलते तेजस्वी मायावती से मिलने लखनऊ पहुंचे। रिपोर्ट्स के मुताबिक तेजस्वी एसपी-बीएसपी गठबंधन को अपना पूरा समर्थन दे रहे हैं।

Share This Post