कभी BJP पर मुस्लिमों को टिकट न देने का आरोप लगाने वाली ओवैसी की पार्टी ने जानिये अपनी पहली लिस्ट में कितने हिन्दुओ को दिए टिकट, जानिये ये भी कि क्या उस लिस्ट में कोई दलित भी है ?

ये वही पार्टी है जो कभी शिवसेना पर साम्प्रदायिक होने का आरोप लगाती है तो कभी भारतीय जनता पार्टी पर मुसलमानों को उनकी पार्टी में भागीदारी न देने का आरोप लगाती है . इतना ही नहीं इसी पार्टी का दिया गया नारा जय भीम जय मीम आज कुछ लोगों द्वारा चुनावों के समय उछाला जाता है लेकिन अब जब वही पार्टी तेलंगाना में होने वाले चुनावों के लिए अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर रही थी तब सबकी नजरें उस पर थी . ध्यान देने योग्य है कि पिछले सप्ताह भंग किये गये तेलंगाना विधानसभा में एआईएमआईएम के सात विधायक थे जिसमे हिन्दू देवी देवताओं को अपशब्द कहने वाला अकबरुद्दीन भी शामिल था ..

उस समय हर कोई ये देखना चाहता था कि खुद को सेकुलर लगा कर बाकी तमाम को साम्प्रदायिक बताने वाली इस पार्टी ने खुद से कितने हिन्दुओ को टिकट देने का मन बनाया है और उसमे भी ये ज्यादा अहम् था कि उन हिन्दुओं में दलित कितने हैं .. ध्यान देने योग्य है कि अपनी कट्टरपंथी छवि और दुर्दांत आतंकियों की पैरवी के लिए कुख्यात असदुद्दीन ओवैसी की अगुवाई वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने तेलंगाना में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव के लिए आख़िरकार शुरुआती चरण में सात प्रत्याशियों की अपनी पहली सूची मंगलवार को जारी कर दी।

एआईएमआईएम की एक विज्ञप्ति के मुताबिक, ओवैसी के छोटे भाई व 15 मिनट में हिन्दुओ को खत्म करने की खुली धमकी देने वाले अकबरूद्दीन आवैसी हैदराबाद में चंद्रयानगुट्टा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी होंगे। घोषित किये गये अन्य प्रत्याशियों में सैयद अहमद पाशा कादरी (याकूतपुरा), मुमताज अहमद खान (चारमीनार), मोहम्मद मोअजम खान (बहादुरपुरा), अहमद बिन अब्दुल्ला बलाला (मलकपेट), जफर हुसैन मेराज (नामपल्ली) और कौसर मोइनुद्दीन (कारवां) शामिल हैं। इस लिस्ट को जारी होने के बाद ये ज्ञात हुआ कि पहली लिस्ट में एक भी हिन्दू का नाम नहीं है , यहाँ तक कि जय भीम और जय मीम का नारा देने वाली पार्टी ने पहली लिस्ट में एक भी दलित का नाम शामिल नहीं किया है और सिर्फ व् सिर्फ मुसलमानों को ही उम्मीदवार बनाया गया है .

 

Share This Post