Breaking News:

राहुल गांधी बताएं कि वो मुस्लिम पुरुषों के राजनेता हैं या मुस्लिम महिलाओं के भी ? अगर दोनों के हैं तो तीन तलाक बिल का विरोध क्यों?

उत्तरा प्रदेश के आजमगढ़ में पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के शिलान्यास के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तीखा हमला किया. प्रधानमंत्री मोदी जी ने राहुल गांधी की मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ मुलाकत को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस के नामदार कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी बताते हैं. लेकिन वह बताये कि अगर कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है तो फिर तीन तलाक बिल का विरोध क्यों किया? इसका मतलब कांग्रेस मुस्लिम पुरुषों की पार्टी है मुस्लिम महिलाओं की नहीं?

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी जी अब अपने मिशन 2019 में जुटे हुए हैं. प्रधानमंत्री जी जानते हैं कि उनका मुकाबला संयुक्त विपक्ष से हो सकता है इसलिए वह अभी से जनता के बीच अपनी पकड़ बनाने तथा विपक्ष को बेनकाब करने में जुट गए हैं. इसी क्रम में आज प्रधानमंत्री जी उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ पहुंचे तथा  प्रदेश की सबसे बड़ी परियोजना पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया. इसके साथ ही उन्होंने जहां यूपी की योगी सरकार को कामयाब करार दिया, वहीं मुसलमानों के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरा. जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने हाल में राहुल गांधी की मुस्लिम समुदाय से मीटिंग पर तंज कसा. राहुल गांधी का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नामदार कह रहे हैं कि उनकी पार्टी मुसलमानों की है. इससे पहले मनमोहन सिंह कह चुके थे कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमानों का है, लेकिन कांग्रेस ये बताए कि उनकी पार्टी मुस्लिम पुरुषों की है, महिलाओं की नहीं है क्या?

गौरतलब है कि मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ राहुल गांधी की मीटिंग के बाद उर्दू मीडिया में खबर आई थी कि राहुल गांधी ने कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी बताया है. जिसे आधार बनाते हुए पीएम मोदी ने आज यह टिप्पणी की और तीन तलाक पर कांग्रेस पार्टी के स्टैंड को लेकर राहुल गांधी को घेरने की कोशिश की. पीएम मोदी ने कहा कि एक तरफ जहां केंद्र सरकार महिलाओं के जीवन को आसान बनाने के लिए प्रयास कर रही है, वहीं ये दल मिलकर महिलाओं और विशेषकर मुस्लिम बहन-बेटियों के जीवन को और संकट में डालने का काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘लाखों-करोड़ों मुस्लिम बहनों की मांग थी कि तीन तलाक को बंद किया जाए, लेकिन संसद में कानून पास नहीं होने दिया गया. 

Share This Post