मुलायम परिवार के बाद अब लालू परिवार में पड़ी फूट.. तेजप्रताप ने बगावत कर बनाया नया मोर्चा

उत्तर प्रदेश का मुलायाम परिवार, जिसे देश का एक कद्दावर राजनैतिक परिवार माना जाता था, लेकिन ये परिवार अब बिखर चुका है. अखिलेश यादव, रामगोपाल यादव , मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव के बीच मचे आपसी घमासान को पूरे देश ने देखा था. इस घमासान ने पूरे देश की सियासत में भूचाल आ गया था तथा उस कद्दावर परिवार को तोड़कर रख दिया था जिसने उत्तर प्रदेश में अपना एकछत्र राज्य कभी कायम रखा था और केंद्र की राजनीति के धुरी के रूप में अपनी पहिचान बना कर रखी थी. इस फूट के बाद मुलायम के सबसे करीबी माने जाने वाले उनके छोटे भाई शिवपाल यादव ने नई पार्टी बना ली.

अखिलेश यादव को बताया “कल का लौंडा” .. कभी उनके ही सबसे करीबी ने .

मुलायम परिवार में पड़ी फूट की आग अभी ठंडी भी नहीं पड़ी थी कि देश के और कद्दावर राजनैतिक यादव परिवार में फूट पड़ गई है तथा ये परिवार है बिहार का लालू परिवार. जी हाँ, लालू परिवार में काफी लंबे समय से चल रही आपसी तकरार अब सतह पर आ गई है तथा लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने बगावत का झंडा बुलंद कर लिया है. बिहार की राजधानी पटना में प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से तेजप्रताप यादव ने बगावत करते हुए लालू-राबड़ी मोर्चा बनाने का एलान कर दिया.

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की ताल ठोंकने वाले तेजस्वी पर लगा ऐसा आरोप जिसकी नींव में है भ्रष्टाचार

प्रेस कॉन्फ्रेंस में तेज प्रताप यादव ने कहा कि आरजेडी में कुछ लोगों ने कब्जा जमा लिया है. तेज प्रताप यादव ने कहा कि उन्होंने लालू राबड़ी मोर्चा के नाम से एक नया फ्रंट बनाया है क्योंकि लोकसभा चुनाव में उनके कार्यकर्ताओं को टिकट नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि उनका मोर्चा बिहार की 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगा. तेज प्रताप यादव ने कहा कि उन्हें आरजेडी से शिवहर और जहानाबाद लोकसभा सीट चाहिए, ताकि उनके कार्यकर्ता इन सीटों पर चुनाव लड़ सकें. उन्होंने ये भी बताया कि शिवहर से अंगेश कुमार और जहानाबाद से चंद्र प्रकाश उनके मोर्चे के उम्मीदवार हैं.

एक पार्टी जिसके लगभग 700 पेज खुद फेसबुक को हटाने पड़े , क्योकि वो फैला रहे थे झूठ

इसके साथ ही तेजप्रताप ने अपने ससुर चंद्रिका राय के खिलाफ भी निर्दलीय चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है, जिन्हें आरजेडी ने सारण से उम्मीदवार बनाया है. तेजप्रताप ने कहा कि सारण की सीट लालू की पारंपरिक सीट रही है और वे अपनी माता राबड़ी देवी से अनुरोध कर रहे हैं कि वे वहां से चुनाव लड़ें, ऐसा नहीं होने पर वह वहां से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे. तेज प्रताप यादव ने कहा कि उन्होंने अपनी मांगें तेजस्वी यादव और लालू यादव को बता दी है. अगर उनकी मांगे मानी जाती हैं तो ठीक हैं वरना उनका मोर्चा 20 सीटों प्रे चुनाव लड़ेगा.

अमित शाह को गले लगाकर उद्धव ठाकरे ने कही ऐसी बात जो खुशी की लहर बनकर दौड़ गई हिंदूवादी संगठनों में

Share This Post