गोपाल कांडा के अंध विरोध में पीडिता की फोटो बिना ब्लर किये चलाई जा रही.. “फैक्ट चेक” के कुछ महारथी भी उसमें शामिल जो ओवैसी को बचाने के लिए त्याग देते हैं अन्न जल


सवाल सिर्फ राजनीति का नहीं है वो तो विरोध की धुरी पर घूम ही रही है.. सवाल उनसे है जो अपने आगे तथाकथित पत्रकारिता का बिल्ला लगा कर केवल बाकी चैनलों में झाँक झांक कर देख रहे हैं कि कौन कहाँ क्या गलत कर रहा है.. गलती से गलत एक स्पेलिंग को भी राष्ट्रीय आपदा के रूप में खुद भी ट्विट कर के अपने अधिनस्थो से भी ट्विट करवा कर ओवैसी जैसे उन्मादियो को बचाने की जिम्मेदारी उठा लेने वाले उन तथाकथित फैक्ट चेकर को पिछले 2 दिनों से एक विशेष चीज नहीं दिखाई दे रही है..

ये विशेष चीज है हरियाणा में चुनाव के बाद बाजी पलट देने वाले गोपाल कांडा के विरोध में किया जा रहा एक शर्मनाक कृत्य.. गोपाल कांडा को न सिर्फ हत्या के लिए उकसाने का दोषी बता कर राजनीति हो रही है बल्कि उन्हें इस मामले में चारित्रिक रूप से भी घेरा जा रहा है.. ये विरोध राजनैतिक स्तर से शुरू हो कर मीडिया के भी स्तर पर आ गया है और मीडिया के आगे निकल कर उसमे कमी खोज कर विरोधियो से डोनेशन लेने वालों ने भी इसमें अपनी सकारात्मकता व सहयोग की मूक सहमति दे डाली है .

ध्यान देने योग्य है कि गोपाल कांडा मामले में दिवंगत पीडिता की फोटो बाकायदा न्यूज पोर्टलों के मुख्य पृष्ट पर डाली जा रही है. उन्नाव मामले से ले कर हरियाणा मामले तक नारी सम्मान के कथित ठेकेदार बनने वाले नेता और मीडिया हाऊस ही इसको सबसे ज्यादा प्रचारित कर रहे हैं.. इसमें वो भी हैं जो पहले पत्रकार थे , फिर नेता बने और दोनों में असफल रहने के बाद फिर से पत्रकार बन गये हैं.. अफ़सोस कि उसमे से किसी ने भी नही ये नहीं सोचा कि वो पीडिता की फोटो को ब्लर कर दें ..

पीडिता का परिवार आज भी वजूद में है .. वो उन तमाम सदमो से उबर कर सामान्य होने का प्रयास कर रहा है लेकिन इस प्रकार के खुले चेहरे के साथ मात्र अपनी स्वार्थपूर्ति के लिए दुष्प्रचार उस परिवार पर क्या असर डालेगी ये नारी सम्मान के नकली ठेकेदारों ने एक बार भी नहीं सोचा.. हद तो ये है कि ओवैसी को बचाने के लिए अपनी पूरी टीम उतार देने वाले एक फैक्ट चेक के उस्ताद ने तो इस पर एक पोस्ट भी नहीं डाली और वो इन तमाम मामलों में अपनी मूक सहमति देते दिखाई दे रहे हैं..

 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share