कुछ वोटों के लिए ऐसे बयान ? नरेन्द्र मोदी की माँ तक को बोल गये ऐसा अपनी खोई जमीन तलाशते एक नेता


राजनीति इस कदर अपना रंग दिखाती है जिसमे किसी की बूढी माँ और पत्नी तक को नहीं छोड़ा जाता है . अगर बात नरेन्द्र मोदी की हो तो उनकी पत्नी अब तक सबसे ज्यादा निशाने पर रहीं हैं जबकि उनका राजनीति से कोई भी दूर दूर तक वास्ता नहीं रहा है , लेकिन अब उसी लपेटे में ले लिया गया है नरेन्द्र मोदी की उन माता को जिनका भी वर्तमान राजनीति से कोई भी वास्ता नहीं रहा है . कुछ ख़ास वोटो के लिए इस तरह राजनीति करना कितना असरदार है ये आने वाला समय ही बतायेगा ..

पवित्र नवरात्रि में मन्दिरों के बगल मांस बेचने वाले जब बाज़ नहीं आये तो खुद उतरा भाजपा का विधायक

विदित हो कि ये बयान देने वाले हैं उत्तर प्रदेश के अजीत सिंह .. पश्चिम उत्तर प्रदेश में अपनी खोई हुई जमीन तलाशने के लिए उन्हें नरेंद्र मोदी की माँ ही निशाने पर लेने के लिए सबसे उपयुक्त लगी हैं . उन्होंने नरेन्द्र मोदी को झूठ बोलने वाला नेता बताया ही लेकिन इसके लिए उन्होंने मोदी की माँ तक को अपनी बदजुबानी में घसीट डाला . उन्होंने कहा कि मोदी के अन्दर जो बुरे संस्कार हैं वो सब उनकी माता ने उनको सिखाये हैं जैसे कि झूठ बोलना .. इस बयान पर भी वहां मौजूद कुछ ख़ास लोगों ने आपत्ति जताने के बजाय ठहाके लगाए..

सेना के पूर्व अधिकारी ने राह पकड़ी बीजेपी की और बोले- “किसी भी सैनिक की पहली पसंद है ये पार्टी”

एसपी, बीएसपी और लोकदल की संयुक्त रैली में पीएम पर निशाना साधते हुए सिंह ने यहां तक कह दिया कि मोदी के मां-बाप ने उनको सच बोलने की सलाह नहीं दी है। आरएलडी प्रमुख के इस बयान पर सियासी घमासान मचना तय है। बता दें कि रविवार को 25 साल बाद एसपी और बीएसपी के दोनों ही बड़े नेता अखिलेश यादव और मायावती साथ-साथ एक मंच पर दिखे। हागठबंधन में शामिल इन तीनों नेताओं ने बीजेपी खासकर पीएम नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया. इस शर्मनाक बयान  बाद भी अजीत सिंह हंसते और खिलखिलाते दिखे और उन्हें  उनके सहयोगियों का भी उस हंसी में साथ मिलता दिखा .

अकेले मंगल पाण्डेय ही नहीं , एक और सैनिक उसी समय चढ़ा था फांसी.. लेकिन वो दूसरा नाम मिटा दिया नकली कलमकारों ने


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share