मोदी का विरोध माता सीता तक पहुंचा .. गठबंधन प्रचारक ने माता सीता के साथ सिगरेट जोड़ा

भारतीय जनता पार्टी और नरेन्द्र मोदी के खिलाफ अपने आक्रोश को चरम तक पहुचाने के चक्कर में आये दिन ऐसे बयान आ रहे हैं जो पहले तो सामजिक मर्यादाओं से परे थे लेकिन अब उन्होंने धीरे धीरे धार्मिक मर्यादाओं को भी तोडना शुरू कर दिया है . एक ऐसा बयान आया है गठबंधन प्रत्याशी के प्रचारक की तरफ से जो हिन्दू भावनाओं को आहत करने वाला है ..

मोदी से सीधी टक्कर से हटीं प्रियंका गांधी. जानिये अब कौन लडेगा काशी से मोदी के खिलाफ

विदित हो कि ये बयान आया है बिहार से जहाँ राष्ट्रीय समता पार्टी का प्रत्याशी अब्दुल बारी सिद्दीकी के प्रचार में उपेन्द्र कुशवाहा पहुचे थे . अब्दुल बारी सिद्दीकी की सभा में मुसलमानों की आई संख्या को भांप कर गठबंधन प्रत्याशी उपेन्द्र कुशवाहा ने हिन्दू देवी देवताओ पर अपमानजनक शब्द बोलने शुरू कर दिए और उधर से तालियाँ बजती सुनाई देने लगी .

कर्नल पुरोहित ने 2006 में ही बता दिया था PFI को देश का कैंसर ? उसके बाद उन्हें मिली ऐसी सजा जो मौत से भी दर्दनाक थी और उन्हें ही घोषित कर दिया गया “आतंकी”

उपेन्द्र कुशवाहा ने भगवान् राम की गाँव आदि में होने वाली रामलीला को निशाना बनाते हुए कहा कि रामलीला में जिस माता सीता को देख कर महिलाये भावविभोर हो कर हाथ जोड़ लिया करती हैं वही सीता बाहर जा कर सिगरेट पिया करती है . इस बयान को सुन कर वहां मौजूद लोगों ने तालियाँ बजाई और ठहाके लगाये . यहाँ तक कि मंच पर बैठे लोगों ने भी चटकारे लिए पर ये बयान वायरल होते ही हिन्दू समाज में आक्रोश की लहर दौड़ गयी . देखिये वो बयान जिस पर मचा हुआ है कोहराम –

कश्मीर ही नहीं असम की समस्या के जड़ में हैं नेहरु. जानिए वो संधि , जिसके बाद असम बन गया बंगलादेशी आक्रान्ताओं का ठिकाना

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post