Breaking News:

चुनावो से पहले ही इस राज्य में समाजवादी पार्टी ने डाले हथियार.. किसी भी सीट से नहीं लड़ेगी चुनाव

आने वाले लोकसभा चुनावो में विपक्ष मोदी सरकार को हराने का दम भले ही भर रहा हो लेकिन जमीनी हकीक़त को देखते हुए ये कहा जा सकता है कि विपक्ष देश की जनता के रुख को भांप चुका है. इसलिए पिछले कुछ दिनों में कई विपक्षी नेता चुनाव न लड़ने की घोषणा करके राजनीति के रणक्षेत्र में हथियार डाल चुके हैं तो कई पाला बदलकर बीजेपी से जुडकर मोदी जी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के अभियान में जुट चुके हैं.

हिन्दू प्रत्याशी को टिकट और उन्हें नहीं, तो ट्रैक्टर ट्राली ले कर पार्टी कार्यालय पहुचे अब्दुल सत्तार और भर लिया वो सब, जो उन्होंने दिया था

 अब समाजवादी पार्टी ने भी उत्तराखंड से चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया है आने वाले लोकसभा चुनावो में पार्टी ने किसी भी सीट से चुनाव नहीं लड़ेगी . गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी ही कांग्रेस और भाजपा के बाद तीसरी ऐसी पार्टी है जिसने राज्य गठन के बाद प्रदेश की किसी लोकसभा सीट पर कब्ज़ा जमाया था .2004 में हुए लोकसभा चुनावो में सपा ने हरिद्वार सीट पर जीत दर्ज की थी.  

27 मार्च- आज ही सूली पर चढ़े थे क्रांतिवीर पंडित काशीराम, जिन्होंने अंग्रेजो के आगे दुश्मन बना कर खड़ा कर दिया था उनके ही सैनिको को

भाजपा को रोकने के लिए सपा बसपा ने उत्तर प्रदेश की तरह ही उत्तराखंड की पांच लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया था हालाँकि यहाँ बसपा ने अपने वोट बैंक का हवाला देते हुए चार सीटों को अपने पास रखा और एक सीट सपा को सोंपी थी लेकिन यहाँ से भी सपा को चुनाव लड़ने के लिए कोई प्रत्याशी नहीं मिल पाया जिसकी वजह से समाजवादी पार्टी चुनावी मैदान से पूरी तरह बाहर हो गई है

शरीयत के लिए सुप्रीम कोर्ट तथा संविधान के खिलाफ खड़ा हो गया ताज मोहम्मद… मेसेंजर पर पत्नी को दिया तीन तलाक

Share This Post