कई जगहों पर तीसरे नम्बर पर रहा #NOTA .. जहाँ दबा नोटा वहां वहां हारी भाजपा


छत्तीसगढ़ –

सोशल मीडिया पर लगातार उठती आवाजों ने आखिरकार अपना कुप्रभाव दिखा ही दिया जब कई स्थानों पर NOTA निर्णायक रूप में सामने आया .. कुछ जगहों ओर तो नोटा तीसरे नम्बर पर रहा और उसने 6000 तक संख्या पार कर ली.. यही नही,जहां भी नोटा प्रभावी रहा वहां हार सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की हुई है .. ऐसे ऐसे स्थान भी चुनावो में सामने आ रहे हैं जहां 2 हजार से कम वोटों से भारतीय जनता के प्रत्याशी हारे हैं जबकि वहां नोटा को 5 हजार से भी ज्यादा संख्या में मत मिलते देखे गए हैं ., इसमें कहना गलत नही होगा कि इस बार का चुनावी गणित नोटा ने बिगाड़ दिया है जिसका सबसे ज्यादा असर भाजपा को झेलना पड़ा है ..

बस्तर की 12 में से 11 सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा जमा लिया है। बस्तर में कांग्रेस की इस लहर में भाजपा के 2 मंत्री सहित कई दिग्गज भी निपट गए। लेकिन कई सीटों पर हार-जीत का निर्णय नोटा करता नजर आ रहा है। कई सीटों पर जहां जीत-हार के अंतर से अधिक वोट नोटा को मिले हैं, तो वहीं कई सीटों पर नोटा तीसरे नंबर पर नजर आ रहा है।
बस्तर  की  इन  सीटों  पर  नोटा रहा ताकतवर :
अब तक नोटा को सिर्फ खानापूर्ति समझने वाले नेताओं को एक बार बस्तर के इन आंकड़ों पर नजर जरूर डालनी चाहिए-  बस्तर के सबसे कद्दावर बीजेपी नेता केदार कश्यप को चंदन कश्यप के हाथों मात्र 2,647 वोटों से हार का सामना करना पड़ा, जबकि तीसरे नंबर पर रहे नोटा को कुल 6858 वोट मिले। इसी तरह कोंडागांव सीट पर भी लता उसेंडी को कांग्रेस के मोहन मरकाम से 1800 से भी कम वोटों से हार मिली, जबकि तीसरे नंबर पर रहे नोटा को 5146 वोट मिले थे। इसके अलावा बस्तर की केशकाल, बीजापुर, चित्रकूट, नारायणपुर, कोंडागांव, बस्तर सीट पर नोटा तीसरे नंबर पर रहा।
यहां तक कि बलिया से भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्री सुरेंद्र सिंह तक ने इस करारी हार के लिए मतदाताओं द्वारा SC ST एक्ट के विरोध में डाले गए सरकार विरोधी वोट व NOTA को जिम्मेदार ठहराया है .. ये सबसे बड़ी चिंता आने वाले 2019 के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के लिए साबित होने जा रही है क्योंकि खुद मध्यप्रदेश के राजनेताओं को जनता ने ऐसे नारे लगा कर दूर हटाया था कि “हमारा सिक्का निकला खोटा, अबकी बार केवल नोटा” .. ऐसे वीडियो भी लगातार वायरल हुई थे जिसको यकीनन भाजपा के आलाकमान ने गंभीरता से नही लिया था ऐसा माना जा रहा है ..

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...