साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ उतारे गये कई साधुओं को एहसास हो गया कि वो क्या कर रहे.. जारी हुआ एक वीडियो

देश की सबसे हॉट सीट बनी मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट को लेकर सियासी घमासान तेज होता जा रहा है. भोपाल से जीत हासिल करने के लिए जहाँ कांग्रेस ने अपने कद्दावर नेता तथा मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को चुनावी मैदान में उतारा है तो वहीं बीजेपी ने फायरब्रांड हिंदूवादी नेता साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को टिकट दिया है. भगवाधारी साध्वी प्रज्ञा की काट के लिए दिग्विजय सिंह ने कम्यूटर बाबा के माध्यम से साधुओं को अपने पक्ष में लामबंद करने की कोशिश की, जो अब बेनकाब होती जा रही है.

राजीव गांधी पर बढ़ा घमासान… अहमद ने कहा – “राजीव की मौत की जिम्मेदार भाजपा”

जी हाँ, भोपाल में दिग्विजय सिंह के प्रचार की कमान संभालने वाले कंप्यूटर बाबा पर अब साधुओं ने बड़ा आरोप लगाया है. सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे इस वीडियो में साधुओं ने कंप्यूटर बाबा पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि हमें भंडारे और पूजा के बहाने यहां बुलाया गया. हमें पता ही नहीं था कि दिग्विजय सिंह का प्रचार करने के लिए बुलाया जा रहा है. दिग्विजय सिंह को राक्षस बताते हुए उनका कहना है कि कम्प्यूटर बाबा राक्षसों का साथ दे रहे हैं.

मेरठ में हिन्दू बच्ची के साथ उन्मादियों ने की छेड़छाड़ तो उबल गया शहर.. तनाव को देखते हुए छाबनी बना इलाका

मथुरा से आए एक साधु ने कहा कि हमें पता नहीं था कि कोई कंप्यूटर बाबा हैं जो किसी राक्षस का सपोर्ट करने बुला लिए हैं. ये राक्षस धर्म के मर्म को जानते नहीं. जो आदमी साध्वी प्रज्ञा को जेल में भिजवा दिया, यातनाएं दीं, हिंदू को आतंकवादी कहता था, जो जाकिर नाइक को अपना आदर्श और शांति का दूत बताता है. ऐसे लोगों का साधु वेश में समर्थन करने वाले लोग पाप कर रहे हैं. ये तो नर्क में जाएंगे. दूसरे साधु ने कंप्यूटर बाबा पर निशाना साधते हुए कहा दिग्विजय सिंह कितना भी प्रयास और कोशिश कर लें लेकिन यहां से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ही जीतेगी.

10 मई – वो पावन दिन जब मेरठ से शुरू हुआ था 1857 का स्वतंत्रता संग्राम ..खुद अंग्रेजों ने लिखा है कि – “क्रांति के मुखिया बहादुरशाह जफर की जगह तात्या टोपे होते तो हम हार जाते”

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post