जहाँ से लड़ रहे हैं अखिलेश वहां ऐसा चेहरा समाजवाद का.. जनता बोली- “जीत गये तो क्या होगा ?”


उत्तर प्रदेश की आजमगढ़ लोकसभा सीट, जहाँ से उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तथा समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं.. एक हॉट सीट बन चुकी है. हॉट सीट इसलिए क्योंकि भारतीय जनता पार्टी इस सीट को जीतने के लिए काफी जोर लगा रही है तथा इसीलिए बीजेपी ने यहाँ से भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार दिनेश लाला यादव “निरहुआ” को चुनाव मैदान में उतारा है..जिससे इस सीट पर अखिलेश यादव के लिए मुश्किलें खड़ी हो गई हैं.

पूर्वांचल के एक और कद्दावर क्षत्रिय नेता को राजा भैया बनाने की धमकी देकर बसपा ने जाहिर किये सवर्ण हिन्दुओं के लिए अपने खौफनाक इरादे

एकतरफ जहाँ अखिलेश अपनी जीत का दावा कर रहे हैं तो वहीं बीजेपी के निरहुआ भी आत्मविश्वास से कह रहे हैं कि वह अखिलेश को आज़मगढ़ से हरा देंगे. निरहुआ को आजमगढ़ में विशाल जनसमर्थन भी मिलता दिखाई दे रहा है, उनकी सभाओं में भारी भीड़ उमड़ रही है..जिसे देखकर सपा कार्यकर्ता बौखलाए नजर आ रहे हैं तथा हिंसा पर उतारू हैं. आज़मगढ़ से ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जहाँ सपा कार्यकर्ताओं ने हताशा में बीजेपी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया है, उनके साथ मारपीट की है.

इस्लामिक मुल्क पाकिस्तान के रडारों को किस नारे के साथ कुचल गये भारत के सैनिक, इसे बताया मोदी ने

ऐसा ही एक मामला आजमगढ़ में सगड़ी विधानसभा के मोलना पुर गांव से सामने आया है जहाँ सपाईयों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट की. बताया गया है कि सगड़ी विधानसभा के मोलना पुर गांव में भारतीय जनता पार्टी के समर्थक अंबुज गोड भाजपा का झंडा लगाए हुए थे. वहीं सपा के समर्थकों द्वारा झंडा उतारने को लेकर और अपने झंडे को लगाने को लेकर कहासुनी हो गई. सपाईयों ने  जबरन वहां से बीजेपी का झंडा उतारकर सपा का झंडा लगाने का प्रयास किया तथा विरोध करने पर हिंसक हो गये.

भारत के सेक्यूलर पत्रकार गये थे श्रीलंका में.. ये देखने कि वहां कौन किसके साथ अत्याचार कर रहा है.. लेकिन ये क्या किया श्रीलंका ने

अंबुज गुप्ता ने रौनापार थाने में समाजवादी पार्टी के सात आठ लोगों को नामजद व 50 से 60 लोगों पर अज्ञात मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दी. इनमें महाप्रधान व सपा सांसद भी शामिल हैं. थानाध्यक्ष रौनापार दिनेश पाठक का कहना है कि तहरीर 7 नामजद और 50-60 अज्ञात के खिलाफ मिली है. जिसकी जांच हो रही है तथा जांच कर कार्रवाई की जाएगी.

प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या को अभी भी फैजाबाद कहती है समाजवादी पार्टी जबकि योगी सरकार ने बदल दिया है जिले का नाम

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...