लहू लुहान हुआ ईराक… 2 धमाके में गिरी कई लाशें

आतंकवाद किसी एक व्यक्ति, समाज अथवा राष्ट्र विशेष के लिए ही नहीं अपितु पूरी मानव सभ्यता के लिए कलंक है । हमारे देश मे ही नहीं बल्कि पूरे विश्व मे

इसका जहर तीव्रता से फैल रहा हैं। न जाने कितने मासूम को आतंकी लोग मौत के नीद सुला देते हैं।आतंक किसी का सगा नहीं होता है और अब वो उन्ही को डस रहा है जिन्होंने उन्हें दूध पिलाया. आतंक अपना नफरत हर जगह फैलाना चाहता है.

आतंकवाद की घटनाए दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही हैं। और

अब आतंकवाद का कहर ईराक़ पर टूटा है।

बता दे कि आत्मघाती आतंकियों ने ईराक़ की राजधानी बग़दाद में तीन दिन में दो बार बम धमाके किए गए है। सोमवार को हुए दो बम धमाकों में 26 लोग मारे

गए। और लगभग क़रीब 90 लोग घायल भी हुए हैं। हालांकि सेना और पुलिस की संयुक्त अभियान कमान के प्रवक्ता जनरल साद मान ने सिर्फ़ 16 लोगों की मौत

की ही पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि दो फ़िदायीनों ने शहर के सबसे भीड़ वाले इलाके में अल-तय्यरन चौराहे पर अलग-अलग जगह ख़ुद को बम धमाके से उड़ा

लिया था। फिलहाल हालात अभी नियंत्रण में हैं। 

Share This Post