आखिर खुद को शेर समझने वाले अमेरिका को मिल ही गया सवा शेर

वाशिंगटन : वो कहते है ना कि जिन्दगी में सबको अपने से बड़ा सवा शेर मिलता है, खुद को शेर समझने वाले इंसान को आखिर एक दिन सवा शेर से मुकाबला करना ही पड़ता है। कुछ ऐसा ही हुआ अमेरिका के साथ जो खुद को सवा शेर समझता था लेकिन अब तो अमेरिका को भी यकीन हो चुका है की कोई उसका भी सवा शेर आ चुका है। जी हां, आपको बता दें कि अब अमेरिका को रूस अपने लिए सबसे बड़ा खतरा बनता है।  
एफबीआई ने हाल ही में एक कमिटी की बैठक के दौरान इस बात पर गंभीर चर्चा हुई कि किस तरह रूस, अमेरिका के लिए एक बड़ा खतरा बनकर उभर रहा है। एफबीआई निदेशक जेम्स कोमी ने कमिटी की बैठक में कहा है कि रूस अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के सामने सबसे बड़ा खतरा पैदा करता है। रूस की तरफ से होने वाली साइबर क्राईम की गतिविधियों पर भी गंभीर चर्चा हुई।
इसके अलावा कोमी ने सीनेट जुडिसशीयरी कमिटी के समक्ष भी एक प्रश्न के जवाब में कहा था कि मेरे विचार से रूस के इरादों और उसकी क्षमताओं को देखते हुए वह दुनिया में किसी भी देश के लिए निश्चित तौर पर सबसे बड़ा खतरा हो सकता है। और तो और सांसदों ने भी साइबरस्पेस में भी रूस की गतिविधियों को लेकर चिंता व्यक्त की है।
 
आपको बता दें कि जब कोमी से सीनेटर लिंडसे ने पूछा कि क्या रूस के बारे में ये कहना सही है कि वह साइबर अपराधियों को सक्रिस तौर पर मदद करता है और उनको पनाह भी दिलाता है। तो कोमी ने इस बात पर अपनी पूरी सहमति जाहिर की थी। ग्राहम ने ये भी कहा कि रूस की इन गतिविधियों को तभी रोका जा सकता है जब उसे अमेरिकी राजनीतिक प्रक्रिया में हस्तक्षेप करने के लिए अच्छा सबक सिखाया जाए। 
ग्राहम की इस बात से कोमी ने सहमति जताते हुए यह बयान दिया कि रूसी अमेरिका में ही नहीं वरना पूरी दूनिया में ही ऐसा कर रहे है। एफबीआई के प्रमुख ने कहा कि राष्टपति चुनाव के दौरान रूस अपनी वास्तविक मतों की संख्या मे फेरबदल करने की कोशिश तो पूरी नहीं कर सका, लेकिन वो दिन भी दूर नहीं कि जब वो ऐसा करने भी कामयाब को जाएगा। कोमी ने ये भी कहा है कि एफबीआई रूसी हैकरों को रोकने के लिए भी काम कर रहा है। 
Share This Post