श्रीलंका में मुसलमानों के खिलाफ सेना और पुलिस को मिला ये नया आदेश.. जबकि भारत से ख़त्म करने की तैयारी है देशद्रोह का क़ानून

ईस्टर पर श्रीलंका के चर्चों तथा होटलों पर इस्लामिक आतंकियों के हमले के बाद वहां की सरकार मजहबी कट्टरपंथियों के खिलाफ एक के बाद एक कड़े कदम उठा रही है. एकतरफ श्रीलंकाई सुरक्षाबल आतंकियों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं तो वहीं बम धमाकों से लहूलुहान श्रीलंका की जनता भी आक्रोशित है. तमाम मीडिया सूत्रों से ऐसी खबरें सामने आई हैं कि श्रीलंका में मुस्लिमों पर हमले शुरू हो गये हैं.

महिला को फिर ‘माल’ बोला कांग्रेसी नेता ने.. जबकि राहुल गांधी वादा कर रहे नारी की सुरक्षा व स्वाभिमान का

इस बीच श्रीलंका से एक ऐसी खबर मिल रही है, जिसके बाद दुनियाभर में खलबली मचने की संभावना है. श्रीलंका सरकार ने बम धमाकों के पश्चात बड़ा कदम उठाने की तैयारी कर ली है. ये कदम मुसलमानों को लेकर उठाया जा सकता है. मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक श्रीलंका में हुए बम धमाकों के बाद श्रीलंका सरकार बड़ी नीतियां बना रही है. श्रीलंका में मुस्लिम महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लग सकती है. इसकी तैयारी भी प्रारंभ हो गई है.

जानिये किस पार्टी का प्रचार कर रहे हैं WWE के पहलवान ग्रेट खली.. प्रत्याशी से ज्यादा उन्हें देख रही भीड़

खबर के मुताबिक, श्रीलंका की सरकार ने इसके लिए मस्जिद के अधिकारियों से वार्तालाप भी किया है तथा इसको लागू करने की तैयारी की जा रही है. बुर्का तथा नकाब पर रोक लगाने का प्रस्ताव श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना के पास भी पहुंच गया है. कई मंत्रियों से उन्होंने मुलाकात की और इस पर चर्चा भी की है. जल्द ही इस पर बड़ा निर्णय हो सकता है.

श्रीलंका में मुसलमानों के खिलाफ सेना और पुलिस को मिला ये नया आदेश.. जबकि भारत से ख़त्म करने की तैयारी है देशद्रोह का क़ानून

इसे लेकर श्रीलंका सरकार ने जो दलील दी है उसके अनुसार 1990 तक श्रीलंका में बुर्का या नकाब नहीं पहना जाता था. वहां की पारंपरिक वेशभूषा में भी ये उपस्थित नहीं था. हालांकि खाड़ी युद्ध के दौरान चरमपंथी ताकतों ने इसको लागू करवा दिया. अब. बम धमाकों के बाद चरमपंथियों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ये कदम उठा सकती है. फिलहाल भारत में कांग्रेस के मेनिफेस्टो में सेना और पुलिस के अधिकारों के कटौती करने और अफ्स्पा जैसे कानून पर संसोधन करने के दावे किये गये हैं जबकि भारत श्रीलंका से भी बड़ा आतंक प्रभावित देश है.

चीन के मानचित्र में अब जो दिखा, उसे अमेरिका और रूस तक ने नहीं सोचा था.. हुआ वो जो अप्रत्याशित है

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post