सिंहलियों पर हमले का रक्तरंजित बदला.. श्रीलंका में कई मुसलमान दुकानों को लगाई गई आग


ईस्टर पर श्रीलंका में चर्चों तथा होटलों पर सिलसिलेवार भीषण बम धमाकों के बाद वहां भी तनाव बना हुआ है. एकतरफ जहाँ श्रीलंकाई सरकार इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ आक्रामक नजर आ रही है तथा कड़े फैसले ले रही है तो वहीं दूसरी तरफ वहां भी जनता भी चरमपंथियों के खिलाफ मुखर है. लेकिन इस सबके बीच हाल ही में श्रीलंका के नेगोम्बो में इस्लामिक उन्मादियों द्वारा सिंहलियों पर हमले की खबरें आई थी, जिसका अब बदला लिया गया है तथा एक बार फिर श्रीलंका में हालत बिगड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं, जिसके बाद वहां कर्फ्यू लगा दिया गया है.

13 साल की बच्ची को इसलिए कुचल डाला क्योंकि वो समझा कि वह मुसलमान है.. शुरुआत हो चुकी है धर्मयुद्ध की

मीडिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़,  कुछ स्थानीय लोगों ने  नेगोम्बो में मुसलमानों की दुकान पर हमला कर वहां तोड़फोड़ किया है. कहा जा रहा है कि नेगोम्बो शहर के पास एक मुस्लिम ऑटो ड्राइवर से कुछ लोगों की बहस हो गई. दरअसल वहां के कुछ स्थानीय लोग ऑटो की तलाशी लेना चाहते थे. इसके बाद मामला बढ़ गया और हिंसा शुरू हो गई. गुस्साए लोगों ने मुस्लिमों की दुकानों में तोड़फोड़ की. इसके अलावा उनकी गाड़ियों को भी नुकसान पहुंचाया.

अफगानिस्तानी मुस्लिमों की मदद करने गये अमेरिकी NGO के आफिस पर ही इस्लामिक आतंकी हमला. कई मरे

इस घटना को लेकर श्रीलंकाई पुलिस का कहना है फिलहाल हालात नियंत्रण में है तथा तनाव को देखते हुए कुछ इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. बता दें कि पिछले महीने ईस्टर के दिन श्रीलंका में 8 बम धमाके हुए थे. इस भीषण आतंकी हमले  में सैकड़ों लोगों की मौत हो गई थी जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे.

दुस्साहस तथा हैवानियत की सभी सीमायें पार कर गया दरिंदा आमिर.. घुस में घुसकर तबाह कर दी नाबालिग की जिन्दगी

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share