अमेरिका ने ढेर कर दिया उत्तर प्रदेश के रहने वाले गद्दार और आतंकी उमर को.. भारत का होकर भारत को ही लिया था निशाने पर


इस्लामिक आतंकवादी संगठन अल कायदा के इंडिया सबकॉन्टिनेंट (AQIS) चीफ मौलाना आसिम उमर को अमेरिकी सुरक्षा बलों ने अफगानिस्तान में मार गिराया है. यह जानकारी अफगानिस्तान के नेशनल सिक्योरिटी डायरेक्टर ने ट्वीट कर दी है. आतंकी उमर के बारे में जो बड़ी खबर सामने आई है वो ये है कि वह भारत के उत्तर प्रदेश का रहने वाला था. जी हां, अफगानिस्तान में अमेरिकी सुरक्षाबलों द्वारा मारा गया आतंकी यूपी के संभल का रहने वाला था, जिसे दारुल उलूम देवबंद में पढ़ाई भी की थी.

आतंकी आसिम उमर सितंबर में अफगानिस्तान में हुई अमेरिकी एयर स्ट्राइक में मारा गया था. उमर उत्तर प्रदेश के संभल जिले का रहने वाला था, जहां वह सनाउल हक उर्फ सन्नू के नाम से जाना जाता था. वह संभल के दीपा सराय इलाके में रहता था, लेकिन 1990 के दशक के आखिरी दौर में वह पाकिस्तान चला गया था. आसिम अल कायदा चीफ अयमान अल जवाहिरी का करीबी था. उसने 2015 में वीडियो जारी कर अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र संघ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस्लाम का दुश्मन बताते हुए हमले की धमकी दी थी.

आपको बता दें कि जुलाई, 2018 में अमेरिका ने आसिम उमर को अपनी ग्लोबल टेररिस्ट की लिस्ट में डाल दिया था. इसके साथ ही अमेरिका ने अलकायदा की भारतीय उपमहाद्वीप इकाई को भी विदेशी आतंकी संगठनों की सूची में डाला था. अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय ने आतंकी आसिम उमर के मारे जाने की पुष्टि की है. उमर ने दारुल उलूम देवबंद से 1991 में ग्रैजुएशन किया था. इसके बाद पाकिस्तान जाने पर वह नौशेरा स्थित दारुल उलूम हक्कानिया से जुड़ा था, इस मदरसे को जिहाद यूनिवर्सिटी कहा जाता है. अपनी दीनी और असकारी ट्रेनिंग के बाद उमर आतंकी संगठन हरकत-उल-मुजाहिदीन का हिस्सा बन गया था. इसके बाद वह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से जुड़ गया.

सितंबर, 2014 में एक विडियो संदेश के जरिए अलकायदा के सरगना अयमान अल-जवाहिरी ने भारत, म्यांमार और बांग्लादेश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ाने का ऐलान करते हुए भारतीय उपमहाद्वीप के लिए भी यूनिट के गठन की बात कही थी. इसके बाद जवाहिरी ने उमर को भारतीय उपमहाद्वीप में आतंकवाद फैलाने के लिए कमांडर के तौर पर चुना था. उसी साल अफगानिस्तान के मिरान शाह शहर में जवाहिरी ने आसिम उमर को कमांडर बनाया था.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share