आतंकी हमले से फिर लहूलुहान हुआ फ्रांस.. क्रिसमस की शॉपिंग करते लोगों पर मौत बन कर झपटा आतंकी, 5 मरे दर्जनों घायल

कभी अपनी खूबसूरती के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध रहा फ्रांस पिछले कुछ समय से बन चुका है आतंक का अड्डा.. अभी हाल में ही गृहयुद्ध जैसे हालात से जूझने के बाद अब फ्रांस पर पड़ी है आतंक की एक और मार .. जिस प्रकार से कभी भारत मे होली, दीवाली, 26 जनवरी, 15 अगस्त आदि दिनों में आतंकी हमले होते थे और उसके फलस्वरूप खास कर हिंदुओं के त्योहार और पर्व रक्तरंजित हो जाया करते थे अब ठीक वैसे ही हमले का शिकार हुआ है फ्रांस..इस बार ईसाईयों का पर्व क्रिसमस आया है लगभग इसी सोच के निशाने पर जहां क्रिसमस बाज़ार में हुए आतंकी हमले में लगभग 5 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं और दर्जनों लोग बुरी तरह से घायल हुए हैं ..चुपचाप क्रिसमस की खरीदारी करते लोगों पर मौत बन कर झपटा है आतंकी ..

विदित हो कि फ्रांस में एक और आतंकी हमला हुआ है ..इस हमले ने पूरे यूरोप में सुरक्षा व्यवस्था को हिला कर रख दिया है और पहली बार क्रिसमस मनाने वाले ईसाईयों के चेहरे पर खौफ दिख रहा है अपने त्योहार आदि को सुरक्षित मनाने के लिए..ध्यान देने योग्य है कि सीरिया ईराक युद्ध के समय फ्रांस ने दया दिखाते हुए अपनी सीमाएं शरणार्थियों के लिए खोल दी थी जिसके बाद अचानक ही फ्रांस में आतंकी हमलों की बाढ़ सी आ गयी है .. कमोबेश यही हाल यूरोप के अन्य कई देशों में भी है जिसमे ब्रिटेन, जर्मनी, बेल्जियम भी शामिल हैं..इसमें सबसे ज्यादा प्रभावित फ़्रांस है जिसकी सुंदर देश व पर्यटन स्थल से छवि तेजी से बदल कर एक आतंकी मुल्क के रूप में स्थापित होती जा रही है ..

ताजा आतंकी हमले में पिस्टल और चाकूओं का इस्तेमाल हुआ है .  इस गोलीबारी में पुलिस ने हमलावर आतंकी को भी मार गिराया है .  कुछ समय पहले ही हथियारों की चोरी इसी आतंकी ने की थी जिसके बाद किसी बड़े हमले की संभावना के चलते पुलिस ने इसके घर पर छापा भी मारा था पर आखिरकार ये घटना घट ही गई. ये हमला पूर्वी फ्रांस के स्टारसबर्ग शहर में क्रिसमस मार्केट के पास किया गया है ..सड़कों पर खरीदारी करते लोग इस हमले का शिकार बने हैं जिसे बाद में पुलिस ने जवाबी गोलीबारी में मार गिराया है .. यद्द्पि 29 साल के मृत आतंकी के घर छापेमारी के बाद पुलिस ने छापेमारी कर के ग्रेनेड पहले ही बरामद कर लिए थे जिस से बड़े व्यापक पैमाने पर नरसंहार की उसकी कोशिश विफल हो गयी थी, लेकिन वो पिस्टल और चाकू ले कर भाग निकला था ..फ्रांस सुरक्षा एजेंसियों द्वारा बताया जा रहा है कि आतंकी ने नरसंहार करने के बाद एक टैक्सी ड्राइवर को बंधक बना कर मौके से भागने की कोशिश की थी और पुलिस ने टैक्सी ड्राइवर को सुरक्षित बचाते हुए आतंकी को मार गिराया था ..आतंकी का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है पर फ्रांस की लचीली नीति और मानवाधिकार एजेंसियों के दबाव में ये अब तक बचता रहा था .

Share This Post