पाकिस्तान की फौज समझा रही अपने सांसदों को भारत के बारे में.. जानिए दोस्ती या दुश्मनी ?

भारत और पाकिस्तान का संबंध हमेशा से ही ऐतिहासिक और राजनैतिक मुद्दों कि वजह से तनाव में रहा है. क्या पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आ सकता है उनकी रीति हमेशा से ही पीठ में छुरा घोपने कि रही है. क्या भारत ऐसे आतंकवादी देश के साथ समझौता कर सकता है जिसके विश्वास का कोई आधार ही न हो. इन देशों में इस रिश्ते का मूल वजह भारत के विभाजन को देखा जाता है. दोनों देशों के बीच लगातार कश्मीर विवाद को लेकर सैनिक कार्रवाई हो चुकी हैं.

वही अब पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अपने देश के सांसदों से कहा कि वे भारत के साथ रिश्ते सुधारें. इसे धमकी समझा जाये या कुछ और.जानकारी के मुताबिक बीते मंगलवार को सीनेट कमेटी की बैठक में सांसदों को संबोधित करते हुए बाजवा ने कहा कि भारत के साथ रिश्तों को सामान्यबनाने के लिए राजनीतिक प्रयास किए जाने चाहिए.उन्होंने कहा कि भारत से रिश्‍ते सुधारने के प्रयासों का पाकिस्ता्न की सेना भरपूर समर्थन करती है कैसे आतंक फैला कर.

उन्होंने कहा कि भारत ने सबसे बड़ी संख्या में सैनिकों की तैनाती पाकिस्तानी के खिलाफ ही कर रखी है और क्यों न करे. उन्होंने आरोप लगते हुए कहा है कि भारत, पाकिस्तान में आस्थिरता और आतंकवाद फैला रहा है जबकि आतंक का सबसे बड़ा नाम सामने पाकिस्तान का आता है ना की भारत का जिसने इतनी तबाही मचा रही है.

पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर बाजवा ने भारत के साथ रिश्‍ते सुधारने की बात कहे जाने से पहले ही हाफिज सईद का पुरजोर समर्थन किया था. कमर बाजवा ने कहा कि हम सरकार को बिल्कुल भी अस्थिर नहीं करना चाहते है.लेकिन ऐसे आतंक फ़ैलाने वाले देश समर्थन करते जरुर करते है. ऐसे में शायद ही कभी दोनों देशों के सम्बन्ध में सुधार हो सके जो की नामुमकिन है.

Share This Post

Leave a Reply