इजरायल तथा रूस की राह पर श्रीलंका.. ईस्टर आतंकी हमले मामले में 89 लोगों को पहिनाईं हथकड़ियां

इस्लामिक आतंकियों के खिलाफ बेहद ही क्रूरता के साथ पेश आने वाले देशों की सूची बनाई जाए तो इजरायल तथा रूस का नाम इस सूची में निश्चित रूप से सबसे पहले लिखा जाएगा. ये दोनों मुल्क इस्लामिक आतंक के सबसे बड़े दुश्मन माने जाते हैं. लेकिन अब श्रीलंका भी इस्लामिक आतंक को लेकर रूस तथा इजरायल की राह पर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है.

आज फिर गरज उठी भारतीय सेना की बंदूकें.. हमेशा के लिए खामोश कर दिए 2 इस्लामिक आतंकी

जी हाँ, ईसाइयों के त्यौहार ईस्टर पर श्रीलंका के होटलों तथा चर्चों पर सिलसिलेवार इस्लामिक आतंकी हमलों के बाद वहां की सत्ता तथा सुरक्षा बलों के रुख को देख दुनिया भी हैरान है. श्रीलंका इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ कहर बनकर सामने आया है. एकतरफ श्रीलंकाई सुरक्षा बल इस्लामिक आतंकियों को लाश में तब्दील कर रहे हैं तो वहां की सुरक्षा एजेंसिया आतंकियों के आकाओं, उनके समर्थकों को सलाखों को पीछे पहुंचा रही हैं. क्या शिक्षक क्या इंजीनियर तो क्या मौलाना-मौलवी.. जिस पर भी श्रीलंकाई सुरक्षा एजेंसियों को संदेह हो रहा है, उसे हथकड़ियां पहनकर उनकी वास्तविक जगह पहुंचाया जा रहा है.

छुट्टियां मनाने के लिए परिवार के साथ इस्लामिक मुल्क ओमान गये थे महाराष्ट्र के खैरुल्ला खान.. वहां आई बाढ़ और बह गया पूरा परिवार

श्रीलंका में 21 अप्रैल को हुए सिलसिलेवार विस्फोट की घटना में संलिप्तता को लेकर कम से कम 89 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस प्रवक्ता एसपी रूवान गुनासेकरा ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार संदिग्धों को अभी आपराधिक जांच विभाग और आतंकवाद जांच विभाग की हिरासत में रखा गया है. उन्होंने कहा कि और संदिग्धों का पता लगाने के लिए पूरे देश में तलाश अभियान चलाया जा रहा है. उन्होंने बताया कि श्रीलंका को दहशतगर्दी से मुक्त कराने के लिए जो भी कदम उठाना पड़ेगा, हम उठाएंगे.

पूरे भारत मे मुज़फ्फरनगर पुलिस के शौर्य का बजा डंका जिसने ढेर कर दिया है 1 लाख के दुर्दांत इनामी अपराधी आस मोहम्मद को

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post