Breaking News:

बढ़ रहा है आक्रोश… ब्रिटेन में 5 मस्जिदों पर हमला

हाल ही में न्यूजीलैंड में मस्जिद पर हुए हमले से दुनियाभर में हडकंप मच गया था. इस हमले में 50 लोग मारे गये थे. न्यूजीलैंड में मस्जिद पर हमले से दुनिया उबर भी नहीं पाई थी कि एक और मुल्क में एक साथ 5 मस्जिदों पर हमला किया गया है. हालाँकि इस बार पुलिस भी सतर्क थी और बिना किसी बड़े नुकसान के ही इस हमले को टाल दिया गया है पर इतना निश्चित हो गया है कि मजहबी कट्टरता को लेकर दुनिया भर में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है तथा नफरत की आग तेजी से फैलती जा रही है. इस आग के एक छोर पर मुस्लिम हैं तो दूसरे पर ईसाई.

26 मार्च- भारतीय फ़ौज के बलिदान से आज ही बंगलादेश अलग हुआ पाकिस्तान से.. वो बंगलादेश जहाँ हो रहा हिंदुओं का नरसंहार और भारत में ही भेज रहा आतंकी

इस बार जिस मुल्क में मस्जिदों को निशाना बनाया गया है वो मुल्क है ब्रिटेन. खबर के मुताबिक़, बर्मिंघम शहर की पांच मस्जिदों पर रात के समय हमला किया गया. मीडिया सूत्रों से मिली खबर के अनुसार, मस्जिदों पर ये हमले बुधवार देर रात से गुरुवार सुबह होने के बीच में किये गए. पुलिस के मुताबिक़, मस्जिद की बाहरी खिड़कियों पर एक मज़बूत हथौड़े से हमला किया गया. बर्चफ़ील्ड रोड पर स्थित मस्जिद पर यह हमला देर रात क़रीब ढाई बजे किया गया.

भारत के किसान दीपक को जीवनसाथी चुना अमेरिका की जेलिका लिजेथ ने और खुद को बसा लिया भारत की भूमि में

देर रात जैसे ही इस हमले की सूचना मिली उसके ठीक 45 मिनट बाद एक ऐसे ही हमले की सूचना अर्डिंगटन में भी मिली. इसके अलावा एस्टन और पेरी बार में भी ठीक ऐसे ही हमले की सूचना पुलिस अधिकारियों को मिली. इसके अलावा अलबर्ट रोड पर भी ऐसा ही हमला हुआ. वेस्ट मिडलैंड्स की पुलिस ने कहा कि अभी तक इन हमलों का असल मक़सद पता नहीं चल सका है लेकिन अधिकारी इसके पीछे का कारण जानने का प्रयास कर रहे हैं.

मुस्लिम नेता ने खामोश किया बाबरी के पैरोकारों को… बाबरी को मस्जिद मानने से किया इंकार

विटन इस्लामिक सेंटर के प्रवक्ता का कहना है कि देर रात क़रीब डेढ़ बजे एक आदमी सीसीटीवी में क़ैद हुआ है. यह शख़्स मस्जिद पर हमले करता हुआ दिख रहा है. इस हमले में मस्जिद की सामने की तरफ़ की छह की छह खिड़कियां टूट गई हैं. एस्टन में मस्जिद फ़ैज़ुल इस्लाम मस्जिद के चेयरमेन यूसुफ़ ज़मान का कहना है कि जब मुझे इस हमले के बारे में पता चला तो मुझे पहली बार में यक़ीन ही नहीं हुआ. आख़िर इसके पीछे वजह क्या हो सकती है. वो कहते हैं कि इस हमले की वजह से लोगों में डर समा गया है. वो अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं और इसलिए वो उन्हें मस्जिद भेजने में भी डर रहे हैं.

लोकसभा में फिर उठी मांग.. तत्काल बने जनसंख्या नियन्त्रण कानून और उल्लंघन करने वालों की छीनी जाएँ सभी सुविधाएँ

Share This Post