Breaking News:

पाकिस्तान में जलाए जा रहे हिन्दुओ के घर.. हिन्दू प्रिंसिपल नोतन मल को अपने हाथो से मौत देना चाहते हैं मजहबी उन्मादी

ये हालात हैं उन जगहों के जहाँ पर हिन्दू समाज अल्पसंख्यक हुआ है . सेक्युलर समाज के कुछ वामपंथी विचारधारा एक लोग अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर देशविरोधी नारों तक का भले ही समर्थन करते हों लेकिन जब अफवाह के आधार पर किसी की जान लेने के लिए एक भीड़ उन्मादी हो और मारो मारो के नारे लग रहे हों तब उनके वो तमाम विचार अचानक ही न जाने कहाँ खो जाते हैं और वो तमाम लोग टी वी स्र्कीनों पर ज्ञान देने के बजाय मौन व्रत धारण करते दिखाई देने लगते हैं .

एक बार फिर से पाकिस्तान में हिन्दुओ पर आ गई है बहुत बड़ी आफत क्योंकि वो बन गये हैं एक ऐसी अफवाह का शिकार जिसका कोई भी आधार नहीं है . पाकिस्तान में एक अफवाह उड़ाई गई कि एक स्कूल के हिन्दू प्रिंसिपल ने इस्लाम का अपमान कर दिया है है.. ये आरोप लगाने वाला एक ऐसा व्यक्ति है जिसके नाम के पीछे अभी भी राजपूत शब्द लिखा जाता है भले ही उसके आगे अब्दुल अजीज लिखा गया है.  अब्दुल अजीज राजपूत ने ही आरोप लगाया है कि एक हिन्दू प्रिंसिपल ने कर दिया है इस्लाम का अपमान..

ध्यान देने योग्य है कि पाकिस्तान के सिंध प्रांत के एक स्कूल में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के प्रधानाचार्य के खिलाफ इस्लाम के अपमान का आरोप लगाने के साथ ही सिंध प्रांत के कई इलाकों में हिन्दुओ पर हमले शुरू हो गये हैं . उनके घरो और दुकानों के साथ उनके ऊपर भी हमले होने लगे हैं . स्कूल का नाम है सिंध पब्लिक स्कूल जिसके हिन्दू प्रिंसिपल का नाम नोतन मल है. पुलिस ने फ़ौरन ही नोतन मल को उन धाराओ में गिरफ्तार कर लिया है जिसमे इस्लामिक मुल्क पाकिस्तान में मौत तक की सजा का प्रावधान है .

उन्मादी चरमपन्थी थाने को घेर कर हिन्दू प्रिंसिपल को खुद को सौंपने की मांग कर रहे थे और थाने पर हमला करने की मुद्रा में आ गये हैं .. पाकिस्तान हिंदू परिषद के प्रमुख और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के नेता रमेश कुमार वांकवानी ने कहा कि प्रधानाचार्य को सुरक्षा कारणों से किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है .. आरोप लगाया जा रहा है कि हिन्दू प्रिंसिपल  इस्लाम के पैगम्बर मोहम्मद पर कोई टिप्पणी की थी जिसके बाद पूरे सिंध में हिन्दुओ पर हमले शुरू हो गये हैं..

दंगो का ये दायरा बढ़ कर मीरपुर माथेलो और आदिलपुर सहित आसपास के शहरों में भी फ़ैल गया और जो हिन्दू जहाँ भी दिखा उस पर हमला किया जा रहा है . उन्मादियो ने सड़कों को जाम कर दिया है और नोतन मल को भीड़ को सौंपने की मांग कर रहे हैं . आरोप लगाने वाला अब्दुल अजीज राजपूत अब तक कोई ठोस प्रमाण नहीं दे पाया है अपने आरोपों के लिए लेकिन मात्र उसके कह भर देने से नोतन मल ही नहीं न जाने कितने हिन्दुओ के प्राण संकट में आ गये हैं . यद्दपि वामपंथी वर्ग अभी भी इस घटना को मॉब लिंचिंग मानने से इंकार कर रहा है ..

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW