पाकिस्तान में हिन्दुओ को मुस्लिमों की भीड़ ने घेरा.. हिन्दुओ की दुकानों में लगाईं आग, हिन्दू डॉक्टर रमेश को अपने हाथ देना चाहते हैं मौत

ऐसी भयानक मॉब लिंचिग शायद ही किसी ने कभी देखी तो दूर सुनी भी रही हो . एक पूरे इलाके में गूँज रहे हैं मजहबी उन्मादी नारे और जिस भी घर को गैर मुस्लिम का देखा जा रहा है वहां लगा दी जा रही है आग . घर और दुकानों के अन्दर से औरतों और बच्चो के चीखने की आवाजे आ रही हैं लेकिन वो तमाम चीखें उन्मादी नारों के बीच कहीं खो जा रही हैं . हर कोई ये जानना चाह रहा है कि क्या कहीं से कोई भी एक आवाज सेकुलरिज्म की उठेगी वहां से जहाँ निशाने पर अभी हिन्दू हैं .

विदित हो कि पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिन्दुओ के नरसंहार का इरादा ले कर मुस्लिमों की भीड़ टूट पड़ी है हिन्दुओ के घरो और दुकानों पर .. कई हिन्दुओ के घर और दूकान जला कर राख कर दिए गये हैं . अभी तक ये सामने नहीं आ पाया है कि भीड़ ने कितनी जाने ले लीं . इस झगड़े का मूल जड़ बनाया गया है एक हिन्दू डाक्टर रमेश को जो इलाके में पशुओं का एक सम्भ्रांत डाक्टर है. उनकी प्रसिद्धि ही बाकी पशु चिकित्सको को रास नही आई और इसी के चलते वो डाक्टर आ गया है निशाने पर.

अपुष्ट खबरों के अनुसार हिन्दू डाक्टर के चलते आस पास के मुस्लिम पशु चिकित्सको की क्लिनिक नही चल पा रही थी जिसके बाद रच दी गई एक बड़ी साजिश .. बताया जा रहा है कि खुद ही कुरान के पन्नो पर दवा की गोलियां रख कर अफवाह उड़ा दी गई कि हिन्दू डाक्टर कुरान के पन्ने फाड़ कर उस पर दवाये सबको देता है . अचानक ही ये खबर आग की तरह फ़ैल गई पहले से तैयार भीड़ ने रास्ते में आने वाले हर हिन्दू के घर और दूकान को जला कर राख कर दिया है …

भीड़ एक जिद पर अड़ी हुई है कि हिन्दू डाक्टर को उसके हवाले किया जाए जिसको वो अपने हाथो से मौत दे सकें .. इस मामले में शिकायत दर्ज करवाने वाला कोई और नहीं बल्कि एक मौलवी है जिसने पहले पुलिस में मुकदमा दर्ज करवाया और बाद में भीड़ जमा कर लिया . ये घटना  पाकिस्तान प्रांत में मीरपुरखास के फुलाडयन नगर में आक्रोशित प्रदर्शनकारियों ने हिंदुओं की दुकानों को आग लगा दी और टायर जलाकर सड़कों को अवरुद्ध कर दिया है . पाकिस्तान के ईशनिंदा कानून के अनुसार डाक्टर रमेश कुमार को मृत्युदंड मिलना लगभग तय माना जा रहा है .. फिलहाल मामले में  सेकुलरिज्म के तमाम कथित ठेकेदार खामोश हैं.. डाक्टर  रमेश कुमार की आवाज भी वहाँ कोई सुनने के लिए तैयार नहीं ..

Share This Post