वहां मनाया जा रहा था इस्लाम के पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन.. तभी वहां फिदायीन बनकर फट गया एक इस्लामिक आतंकी और मारे गये 50 से ज्यादा लोग

इस्लामिक मुल्क अफगानिस्तान के काबुल में इस्लाम के पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन ईद मिलाद-उन-नबी के मौके पर हुए फिदायीन हमले में 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई. जबकि 80 से ज्यादा लोग घायल हो गए. यह हमला अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार को हुआ. अफगानिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता वाहिद मजरूह ने बताया कि हमले में लगभग 80 से ज्यादा लोग घायल हो गये. जिनमें 40 की हालत गंभीर बनी हुई है. इस हमले की तत्काल किसी भी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है.

काबुल पुलिस प्रमुख के प्रवक्ता बशीर मुजाहिद ने कहा कि हमले के पीड़ित दुर्भाग्यवश इस्लामिक विद्वान थे जो पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन मनाने के लिए एकत्र हुए थे. इसी दौरान हमलावर ने आत्मघाती हमले को अंजाम दिया। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने इस हमले की निंदा करते हुए इसे ‘इस्लामी मूल्यों और पैगंबर मोहम्मद के अनुयायियों पर एक हमला’ बताया है. इसके साथ ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी इस हमले की निंदा की और पीड़ितों के प्रति संवेदना जाहिर की.

दानिश ने बताया कि एक आत्मघाती हमलावर ने उन मुस्लिम अनुयायियों को निशाना बनाते हुए हमला किया था जो अपने पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिवस पर एक वेडिंग हॉल में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे. काबुल एयरपोर्ट के पास ही बने इस वेडिंग हॉल में हमलावर हॉल में सीधा घुस आया और अंदर जाकर खुद को उड़ा लिया. काबुल पुलिस के प्रवक्ता ने बशीर मुजाहिद ने बताया कि सैकड़ों इस्लामिक विद्वान और उनके अनुयायी यहां पर इकट्ठे हुए थे और ईद मिलाद-उन-नबी के मौके पर कुरान का पाठ पढ़ रहे थे. काबुल में आपातकालीन सेवा में लगे अधिकारियों ने बताया कि मौके पर 30 एंबुलेंस को रवाना किया गया है. घायलों में से 40 की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है.

Share This Post