फिलिस्तीन ने टेके घुटने.. दर्जनों मौतों के बाद इजरायल के आगे जोड़े हाथ और मांगा संघर्ष विराम


जैसे ही इजरायल की सेना की बंदूकें गरजना शुरू हुई, इस्लामिक आतंकी दल हमास तथा फिलिस्तीन घुटनों के बल आ गया तथा संघर्ष विराम की गुहार लगाने लगा. जैसे ही इजराइली सेना ने फिलिस्तीनी उन्मादियों की लाशें बिछाई तो उसके खेमे में खलबली मच गई. इजराइल ने एक के बाद एक 22 फिलिस्तीनी उन्मादियों को मार गिराया तथा उन्हें घुटनों के बल ला दिया, जिससे वह संघर्ष विराम को मजबूर हो गये.

बता दें कि गाजा से रविवार तड़के इजराइल पर रॉकेट दागे गए जिसके जवाब में इजराइल ने गाजा पट्टी पर हवाई हमले किए. गाजा के अधिकारियों के मुताबिक शनिवार से बढ़े तनाव में इजराइली हमलों में कम से कम 22 चरमपंथी तथा फलस्तीनी नागरिक मारे गए तथा हमले में गाजा सिटी की कई इमारतें नष्ट हो गयीं. इसको लेकर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि उन्होंने “सेना को गाजा पट्टी में आतंकवादी तत्वों पर बड़े पैमाने पर हमले जारी रखने का निर्देश दिया है.’’

उन्होंने कहा कि उन्होंने गाजा के पास पहले से तैनात सैनिकों को मजबूत करने के लिए टैंक, तोपें और सैनिकों को भी भेजने का आदेश दिया है. यह ताजा झड़प गाजा पट्टी पर शासन करने वाले हमास के साथ हुई है जो संघर्षविराम के तहत इजराइल से कुछ और छूट की मांग कर रहा है. इजराइल ने कहा कि फलस्तीनी सीमा क्षेत्र से शनिवार से अब तक करीब 430 रॉकेट दागे गए हैं और उसके हवाई रक्षा बलों ने कई को रास्ते में ही नष्ट कर दिया.

इजराइली सेना ने कहा कि उसके टैंकों और विमानों ने करीब 200 आतंकवादी ठिकानों को निशाना बनाया. सैन्य प्रवक्ता जोनाथन कोनरीकस ने कहा कि इन ठिकानों में एक सुरंग भी शामिल थी जहां से चरमपंथी हमलों को अंजाम देते थे. गाजा शहर की दो बहुमंजिली इमारतें तबाह हो गईं. इजराइल ने दावा किया कि इन इमारतों में से एक में हमास का सैन्य खुफिया एवं सुरक्षा कार्यालय भी था और अन्य इमारत में हमास एवं इस्लामिक जिहाद के कार्यालय थे.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...