Breaking News:

रमजान में रोजा नहीं रखने देगा चीन उइगर मुसलमानों को.. किसी में साहस नहीं कि उसको कुछ बोल दे


पिछले काफी लंबे समय से ये खबरें सामने आती रही हैं कि चीन में उइगर मुस्लिमों के साथ धार्मिक आधार पर भेदभाव किया जा रहा है, उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. लेकिन अब चीन से जो खबर आई है, उससे संपूर्ण इस्लामिक इस्लामिक जगत में खलबली मच गई है. खबर के मुताबिक़, चीन में रमजान के महीने में मुस्लिम बहुल शिंजियांग प्रांत में सार्वजनिक सेवा के अधिकारियों, छात्रों और अवयस्कों के रोज़ा रखने पर प्रतिबंध लगा दिया है. आश्चर्य इस बात का है कि कोई भी इतना साहस नहीं दिखा पा रहा है जो चीन के इस कदम का विरोध कर सके.

शिंजियांग प्रांत में मुस्लिमों के रोजा रखने पर बैन के पीछे चीन ने तर्क दिया है कि वह क्षेत्र के मुस्लिमों को कट्टरपंथ से दूर रखना चाहता है. शिंजियांग प्रांत की आधिकारिक वेबसाइट पर चीनी सरकार ने एक नोटिस जारी कर कहा है कि रमजान के दौरान सभी तरह की फूड सर्विस सामान्य तौर पर उपलब्ध रहेगी और इसमें कोई बदलाव नहीं किया जाएगा. इसके अलावा क्षेत्र के अधिकारियों को भी इस बात के निर्देश दिये गए हैं कि रमजान के दौरान कोई भी शख्स व्रत या अन्य किसी धार्मिक गतिविधि में शामिल ना हो. साथ ही छात्रों को भी व्रत ना रखने और मस्जिद में प्रवेश ना करने के निर्देश दिये गए हैं.

चीन ने यह भी साफ किया है कि रमजान के महीने में वह शिंजियांग प्रांत में सामाजिक स्थिरता बनाए रखने के लिए बड़े पैमाने पर निरक्षण करेगा. सभी मस्जिदों को दुआ करने आ रहे मुसलमानों के आईडी कार्ड जांचने के निर्देश पहले ही दिये जा चुके हैं. इससे पहले खबरें सामने आई थीं कि चीन के पश्चिमी प्रांत शिनजियांग में बड़े पैमाने पर उइगर मुस्लिमों को री-एजुकेशन कैंप में रखा जा रहा है जहां मुसलमानों को मुस्लिम धर्म को छोड़ने और कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति निष्ठा रखने की शपथ दिलवाई जाती है. खबरें तो यह भी सामने आई थीं कि बड़े पैमाने पर चलाए जा रहे इस कैंपेन में इस्लाम को एक मानसिक बीमारी का नाम दिया जा रहा है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...