नमाज़ियों से खचाखच भरी काबुल की दश्त-ए-बर्च मस्जिद में ब्लास्ट. लगभग 3 रोजेदार घायल और 2 मरे

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल को एक बार फिर दहशतगर्दो ने अपना निशाना बनाया है. एक बार फिर काबुल में एक मस्जिद में धमाका और गोलीबारी हुई है. जिसके चलते 2 लोगो की  मौके पर ही मौत हो गयी. साथ ही 3 घायल हुए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के दश्त-ए-बर्ची अलजहरा मस्जिद में गुरुवार रात को जबर्दस्त धमाका हुआ. इसके बाद गोलीबारी की भी आवाज सुनी गई. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस हमले में 2 लोगों के मारे जाने तथा 3 लोगों के घायल होने की पुष्टि की है. अफगान समाचार एजेंसी टोलो न्यूज के अनुसार, धमाका रात करीब 9 बजे हुआ. प्रत्यक्षदर्श‍ियों ने बताया कि धमाका जबर्दस्त था और उसके बाद इलाके में गोलीबारी की भी आवाज सुनी गई. यह धमाका ऐसे वक्त में हुआ है, जब लोग लैलतुल-कद्र (रमजान की अहम रात) की तैयारी कर रहे थे. लैलतुल-कद्र रमजान के 19वें, 21 वें और 23वें दिन पड़ता है. इस अवसर पर मस्जिदों पर काफी भीड़ होती है.
पिछला एक महीना अफगानिस्तान के लिए काफी दुखद र अफगानिस्तान की राजधानी काबुल को एक बार फिर दहशतगर्दो ने अपना निशाना बनाया है. एक बार फिर काबुल में एक मस्जिद में धमाका और गोलीबारी हुई है जिसके चलते 2 लोगो की  मौके पर ही मौत हो गयी. साथ ही 3 घायल हुए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के दश्त-ए-बर्ची अलजहरा मस्जिद में गुरुवार रात को जबर्दस्त धमाका हुआ. इसके बाद गोलीबारी की भी आवाज सुनी गई. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस हमले में 2 लोगों के मारे जाने तथा 3 लोगों के घायल होने की पुष्टि की है. अफगान समाचार एजेंसी टोलो न्यूज के अनुसार, धमाका रात करीब 9 बजे हुआ. प्रत्यक्षदर्श‍ियों ने बताया कि धमाका जबर्दस्त था और उसके बाद इलाके में गोलीबारी की भी आवाज सुनी गई. यह धमाका ऐसे वक्त में हुआ है, जब लोग लैलतुल-कद्र (रमजान की अहम रात) की तैयारी कर रहे थे. लैलतुल-कद्र रमजान के 19वें, 21 वें और 23वें दिन पड़ता है. इस अवसर पर मस्जिदों पर काफी भीड़ होती है.
पिछला एक महीना अफगानिस्तान के लिए काफी दुखद रहा है. वहां एक कर एक लगातार कई आतंकी घटनाएं हो रही हैं. अफगानिस्तान एक बार फिर धमाके से दहल गया है. इसके पहले 3 जून और 6 जून को भी वहां आतंकी हमले हुए. हेरात में 6 जून को जाम-ए-मस्जिद के पास एक मस्जिद के करीब धमाका हुआ, जिसमें कम से कम सात लोगों की मौत हो गई. हेरात के पुलिस प्रमुख मोहम्मद अयूब अंसारी के अनुसार विस्फोटक एक मोटरसाइकिल में लगाया गया था और शहर की सबसे बड़ी मस्जिद के उत्तरी प्रवेश द्वार के करीब दोपहर तीन विस्फोट हुआ. इसके पहले 3 जून को ही अफगानिस्तान में एक शव यात्रा के दौरान बम ब्लास्ट में 18 लोग मार गए थे.
काबुल के खैर खाना इलाके में इस धमाके की चपेट में आने से 30 से ज्यादा लोग घायल हुए थे. हा है. वहां एक कर एक लगातार कई आतंकी घटनाएं हो रही हैं. अफगानिस्तान एक बार फिर धमाके से दहल गया है. इसके पहले 3 जून और 6 जून को भी वहां आतंकी हमले हुए. हेरात में 6 जून को जाम-ए-मस्जिद के पास एक मस्जिद के करीब धमाका हुआ, जिसमें कम से कम सात लोगों की मौत हो गई. हेरात के पुलिस प्रमुख मोहम्मद अयूब अंसारी के अनुसार विस्फोटक एक मोटरसाइकिल में लगाया गया था और शहर की सबसे बड़ी मस्जिद के उत्तरी प्रवेश द्वार के करीब दोपहर तीन विस्फोट हुआ. इसके पहले 3 जून को ही अफगानिस्तान में एक शव यात्रा के दौरान बम ब्लास्ट में 18 लोग मार गए थे. काबुल के खैर खाना इलाके में इस धमाके की चपेट में आने से 30 से ज्यादा लोग घायल हुए थे. 
Share This Post