रूसी पत्रकारों की मौजूदगी में ब्रिक्स अवॉर्ड से सम्मानित किये गये श्री सुरेश चव्हाणके जी.. दुनियाभर से शुभकामनाओं का तांता

पूरे सुदर्शन परिवार के वो छड़ गर्व करने वाला था जब दिल्ली के रसियन साइंस एंड कल्चर सेंटर में सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक श्री सुरेश चव्हाणके जी को उनकी बिंदास अंदाज में आक्रामक पत्रकारिता तथा भारत-रूस मैत्री संबधों को मजबूत करने के लिए ब्रिक्स अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. श्री सुरेश जी को ये अवॉर्ड इंडिया रसिया जर्नलिस्ट असोसिएशन ने प्रदान किया. ये ब्रिक्स अवॉर्ड हर वर्ष भारत और रूस के पत्रकारों को दोनों देशों के बीच मैत्री संबंधों को मजबूती प्रदान करने के लिए दिया जाता है.

सैनिकों के हत्यारे दुर्दांत नक्सली की पत्नी को मिल गया विधानसभा का टिकट.. एक ऐसी पार्टी जिसने पीड़ा दी सैंकड़ों बलिदानियों को

दिल्ली के रसियन साइंस एंड कल्चर सेंटर में आयोजित इस कार्यक्रम में भारत तथा रूस के कई बड़े बुद्धिजीवी तथा सम्मानीय लोग शामिल हुए. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री सुरेश चव्हाणके जी ने भारत तथा रूस लंबे समय से मजबूत तथा प्रगाढ़ मित्रता को आगे ले जाने पर बल देते हुए कहा कि एकतरफ रूस दुनिया की महाशक्ति है तो वहीं भारत आज दुनिया की नई वैश्विक शक्ति के रूप में उभर रहा है. श्री सुरेश जी ने कहा कि हमेशा से ही भारत तथा रूस के बीच मजबूत रणनीतिक, सैनिक, आर्थिक, एवं राजनयिक सम्बन्ध रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज के समय दुनिया में पनपते आतंकवाद तथा अराजकता के खिलाफ भारत तथा रूस की अहम भूमिका होने वाली है तथा दोनों देश मिलकर दुनिया को नया रास्ता दिखाएँगे.

जिसे मासूम शॉल बेचने वाला कश्मीरी देखा जाता था वही निकला हमारे CRPF वीरों का असल हत्यारा.. उसने ही तैयार किया था मौत का सामान

इस दौरान श्री सुरेश चव्हाण के जी ने अपने भाषण के दौरान अध्यात्मिक राष्ट्रवाद पर जोर देते हुए रूस की सरकार से मांग की है कि रूस में हिंदुओं के लिए मंदिर बनाया जाए. उन्होंने कहा कि हिन्दू संस्कृति वो संस्कृति है जिसने अन्धकार में भटके हुए जग को रास्ता दिखाया है.  उन्होंने कहा कि सनातन पथ पर चलते हुए भारत तथा रूस के संबध और अधिक मजबूत होंगे तथा दुनिया के लिए एक प्रेरणा बनेंगे.

27 मार्च- आज ही सूली पर चढ़े थे क्रांतिवीर पंडित काशीराम, जिन्होंने अंग्रेजो के आगे दुश्मन बना कर खड़ा कर दिया था उनके ही सैनिको को

Share This Post