बुखारी दिखा रहा है कानून को आँखें. बोला तीन तलाक के बीच में न पड़े कानून..

लम्बे समय से चलते आ रहा तीन तलाक का मुद्दा शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा था और ना ही मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इसके उपर कोई करवाई कर रहा था। जिससे मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक का शिकार होती जा रही थी, लेकिन जिस दिन से हिन्दुओं ने तीन तलाक का पक्ष लेते हुए विरुद्ध मोर्चा खोला है तब से मुसलमान तीन तलाक के मुद्दे पर झुकते जा रहे है।

वहीं, अब दिल्ली के जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद बुखारी ने भी हिन्दूओं के आगे घुटने टेक दिए है। बुखारी ने कहा है की अब किसी भी राजनेतिक दल और कानून को इस केस में दखल अंदाजी करना बंद करना पड़ेगा। इतने दिनों से इस मामले पर लड़ रहे हिन्दुओं से बुखारी ने कहा की यह मामला हमारा है इसे हम खुद संभाल लेंगे, किसी भी राजनेतिक पार्टी या कानून इस मुद्दे पर आपनी पेशकश जाहिर न करें।

इसके साथ ही कहा कि मुस्लिम लॉ बोर्ड को तब इन महिलाओ का दर्द नहीं सुनाई दिया था। लेकिन आज जब यह मुद्दा उठ गया है तो मुसलमानों ने अब हिन्दुओ के आगे सिर झुका दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि अब हम इस मुद्दे पर करवाई करेंगे। बुखारी ने आगे कहा कि हिन्दुओं को इस मुद्दे पर बात करने से मना किया है और साथ ही कानून को भी इसके खिलाफ बोलने और समाचार को दिखने से माना किया है। बुखारी ने कहा है की इस मुद्दे पर हो रही बहंस को भी रोका जाए।

बुखारी ने हिन्दुओं की बात को मानते हुए कहा है कि व्हाट्सएप्प और फ़ोन पर तलाक बोलना महिलओं के साथ नाइंसाफी है। बुखारी ने मान लिया की एक महीने का समय महिलाओं को जरुर देना चाहिये ताकि किसी समझौते की कोई गुन्जरिश हो। हिन्दुओं की बात मानते हुए उन्होंने कहा की हम मुसलमानों को जागरूक होना चाहिए।

Share This Post