क्या अब पूरे समाज को आतंकी की नजर से देख रहा है ब्रिटेन ? ब्रिटिश खुफिया एजेंसी ने कहा – इंग्लैण्ड में मौजूद हैं 23 हजार आतंकी .


भारत के बुजुर्गों ने एक कहावत कही है कि – ” जा के पैर ना फ़टे बिवाई , सो का जाने पीर पराई “

कभी दुनिया भर में हो रहे आतंकी हमलों पर दुनिया भर को संयम का पथ पढ़ाने वाले देश अब खुद खड़े हो रहे हैं पूरी दुनिया में फैले आतंक के खिलाफ वो भी तब जब आतंक ने उनके छाती पर चढ़ कर तांडव शुरू कर दिया है .उन्ही देशो में से एक है कभी दुनिया के बड़े हिस्से पर राज करने वाला ब्रिटेन जिसको एक के बाद एक आतंकी हमले झेलने पड़ रहे हैं और शायद उसी के बाद उसका रुख बेहद सख्त होता जा रहा है .

मैनचेस्टर में हुए आतंकी हमले के बाद अचानक नींद से जागे ब्रिटेन ने अपनी सेना और और ख़ुफ़िया एजेंसियों को उनके उच्चतम स्तर पर अलर्ट कर दिया है . इसी सतर्कता का परिणाम है कि ब्रिटिश ख़ुफ़िया एजेंसियों ने दावा किया है कि उनके देश में वर्तमान में कुल 23000 के आस पास आतंकी मौजूद हैं जो ब्रिटेन के खिलाफ साजिश रचते जा रहे हैं . 23000 आतंकियों की संख्या घोषित होने के बाद ब्रिटेन की एक बहुत बड़ी आबादी संदेह के निशाने पर आ गयी है . ब्रिटिश ख़ुफ़िया एजेंसी का ये भी दावा है कि इन 23000 संदिग्धों में से 3000 के आस पास तो बेहद उग्र और आतंकी सोच से लगभग ओत प्रोत हो चुके हैं . 

आतंकी आहट से बेहद डरी ब्रिटिश जनता को अब निर्भय रखने की जिम्मेदारी उस शासन , प्रशासन और ख़ुफ़िया विभाग की है जिसने कभी आँख बंद कर के आतंकी जड़ों को पनपने और फैलने फूलने दिया था . शायद ही कोई देश ऐसा हो जिसने खुलेआम अपने देश में मौजूद इतनी बड़ी संख्या में आतंकी विचारधारा के कट्टरपंथियों के होने की बात स्वीकारी हो . 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share