बुर्का पहिनने वाली महिलाओं के साथ ये सब कर रहा है चीन.. वो चीन जिसके खिलाफ कट्टरपंथ की सीमा समाप्त हो जाती है

भारत के पड़ोसी वामपंथी विचारधारा वाले चीन से अक्सर मुस्लिमों पर अत्याचार की ख़बरें सामने आती रहती हैं कि चीन में मुस्लिमों को प्रताड़ित किया जा रहा है, उन्हें उनके मजहबी क्रिया कलापों से दूर किया जा रहा है. पिछले वर्ष ये भी खबर सामने आई थी कि चीन में इस्लामिक रीति रिवाजों को नए तरीके से तैयार किया गया है अर्थात चीन का इस्लाम दुनिया के अन्य देशों के इस्लाम से अलग हो गया. इस खबर के बाद पूरी दुनिया में खलबली मच गई थी लेकिन अपने फैसले से टस से मस नहीं हुआ था.

लेकिन अब चीन से जो खबर आई है वो और अधिक हैरान करने वाली है. चीन में अब बुर्का पहिनने वाली महिलाओं पर कार्यवाई की जा रही है. खबर के मुताबिक़, चीन के शिनजियांग प्रांत में यदि कोई मुस्लिम महिला बुर्का पहनती है या फिर ‘अवैध’ इस्लामिक विडियो देखता हुआ कोई पाया जाता है तो उसे डीरैडिकलाइजेशन सेंटर में भेजा जा सकता है. वजह यह है कि चीन की सरकार इसे अतिवाद के तौर पर देखती है. शिनजियांग प्रांत में रहने वाले उइगुर मुस्लिमों में अतिवाद को रोकने के लिए सरकार ने डी-रैडिकलाइजेशन सेंटर्स स्थापित किए हैं.

मीडिया सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक़, चीन के शिनजियांग में रहने वाली 28 वर्षीया मेहरबान शिमिह को जून 2018 में वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर में इसलिए भर्ती किया गया था क्योंकि उन्होंने बुर्का पहना था. उनका कहना था कि वह अपनी सास के दबाव के चलते पश्चिमी ड्रेस नहीं पहनती थीं. यही नहीं शिमिह की सास और उनके पति इबलियम कादर को लोगों को उकसाने के आरोप में 17 साल जेल की सजा सुनाई गई है. अथॉरिटीज को संदेह था कि शिमिह भी अतिवादी विचारों से प्रभावित हैं और इस संदेह में उन्हें वोकेशनल सेंटर में भेज दिया गया.

मीडिया सूत्रों के मुताबिक़, शिमिह ने बताया कि पड़ोसियों ने स्थानीय पुलिस को मेरे बुर्का पहनने को लेकर जानकारी दी थी, जिसके बाद मुझे वोकेशनल सेंटर में डि-रैडिकलाइजेशन के लिए भेजा गया.  शिमिह उन 275 लोगों में से एक हैं, जिन्हें डिरैडिकलाइजेशन सेंटर में भेजा गया है, इनमें 11 महिलाएं शामिल हैं. ये सभी लोग बीते एक साल वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर में हैं. चीन का कहना  है इन सेंटरों में कट्टरपंथी लोगों को भेजा जा रहा है ताकि वो लोग वहां जाकर कट्टरपंथ को त्यागें व सामान्य क्रिया कलाप करें.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share