“जो हथियार और ग्रेनेड हमने तुम्हारी फ़ौज को बेचे थे वो कश्मीर में आतंकियों के पास से कैसे मिल रहे” ?- चीन के इस सवाल का जवाब देना ही होगा पाकिस्तान को

ये वो सवाल है जो बहुत पहले भी उठाया जा सकता था लेकिन तब इस सवाल को उठाना तो दूर , खुद से ही कुछ लोग दबाने की कोशिश किया करते थे.. कुछ वोटों का लालच था और कुछ साहस की कमी .. अयोध्या में हुए आतंकी हमलो तक में चीनी ग्रेनेड बरामद किया गया था तब भी ये सवाल उठाया जा सकता था.. फिलहाल सरकार की दृढ इच्छाशक्ति के बाद चीन ने पाकिस्तान से वो सवाल कर ही डाला है जिसका जवाब पाकिस्तान कभी भी किसी भी हालत में उसको दे ही नही सकता है ..

विदित हो की सेना पर हुए हमलो में भी चीनी ग्रेनेड अक्सर इतेमाल किया गया था जो अब पाकिस्तान के गले की फांस बन गया है . पाकिस्तान को और ज्यादा हथियार उधार देने के नाम पर बचने से बहाना बनाने के नाम पर चीन ने पाकिस्तान से ऐसे सवाल करने शुरू कर दिए हैं जिसका उत्तर कभी मिल ही नहीं सकता है.. चीन जान चुका है की पाकिस्तान की हालत इतनी खस्ता है की वो पहले का ही दिया कर्ज नही चुका सकता है , कर्ज पर हथियार देने के बाद पैसा मिलना तो दूर की बात है ..

इसीलिए उसने पाकिस्तान से और जायदा उन्नत हथियारों की मांग पर सवाल किया है की पहले ये बताओ की जो हथियार और ग्रेनेड हमने तुम्हारी फ़ौज को बेचे थे वो कश्मीरी आतंकियों के पास से कैसे बरामद हो रहे हैं ?’ पाकिस्तान ने सोचा भी नहीं था की चीन उसको इस प्रकार से दुनिया के आगे बेइज्जत कर देंगा .. फिलहाल चीन अकेले पाकिस्तान इकनोमिक कॉरिडोर में 46 बिलियन डॉलर का निवेश कर चुका है. उसके इस प्रोजेक्ट में भी लगातार देरी होती जा रही है.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share