बांग्लादेशी, पाकिस्तानी, रोहिंग्या, अफगानी के बाद अब दिल्ली में गिरफ्तार हुआ है चीन का जासूस अब चीनी संक्रमण के जहर से संक्रमित होता भारत…

हिन्दुस्तान हमेशा से विदेशी घुसपैठियों की समस्या से जूझता रहा है. पहले पाकिस्तानी और बांग्लादेशी फिर उसके बाद रोहिंग्या घुसपैठिये देश के लिए न सिर्फ बाहरी बल्कि आंतरिक खतरा भी साबित हो रहे हैं. पिछले कुछ समय में आश्चर्यजनक रूप से देश से अलग अलग हिस्सों से अफगानी घुसपैठियों की गिरफ्तारी भी हुई है. लेकिन घुसपैठियों की ये समस्या यहीं समाप्त नहीं होती है बल्कि ये संक्रमण काफी तेजी से भारत को तबाह कर रहा है तथा इसी बीच देश की राजधानी दिल्ली से अब चीनी जासूस गिरफ्तार हुआ है. आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक चाइना के बिजनेस मैन को जासूसी के संदेह पर गिरफ्तार किया है. दिल्ली पुलिस ने आरोपी की पहचान चार्ली पेंग के रूप में की है. गिरफ्तारी के बाद चीन के जासूस को पुलिस रिमांड पर भेजा गया है.

बताया गया है कि चीन के इस जासूस के पास से पुलिस को भारतीय पासपोर्ट और आधार कार्ड मिला है. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, चार्ली का पासपोर्ट मणिपुर से जारी किया गया है, जबकि आधार कार्ड पर दिल्ली के द्वारका इलाके का पता दिया गया है. इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने चार्ली के बॉस को हिरासत में लिया है. चार्ली पेंग के बॉस से एक फॉर्च्यूनर कार, साढ़े तीन लाख भारतीय करेंसी, 2000 हज़ार डॉलर, 22 हाज़र थाई करेंसी मिली है. सूत्रों के मुताबिक, चार्ली गुरुग्राम के डीएलएफ में रह रहा था और वहीं से अपनी कंपनी चला रहा था. सूत्रों का ये भी कहना है कि चार्ली अपने काम के अलावा मनी एक्सचेंज का भी काम करता था, इसलिए उसका संपर्क कई बड़े हावाला कारोबारियों से हो सकता है. सूत्रों का कहना है कि चार्ली के तार देश के बड़े हवाला कारोबारियों से जुड़े होने के संकेत मिलने के बाद उनकी तलाश में कागजातों की छानबीन की जा रही है.

पुलिस के पास से जो भारतीय पासपोर्ट मिला है, वह मणिपुर का है. सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, चार्ली पांच साल पहले भारत आया था और मणिपुर में रहने वाली एक लड़की से शादी के बंधन में बंधा. मणिपुर की लड़की से शादी करने के बाद चार्ली ने भारतीय पासपोर्ट बनवाया और फिर गुरुग्राम में आकर रहने लगा. हालांकि अब तक इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि आखिरकार चार्ली ने दिल्ली के द्वारका के पते पर आधार कार्ड कैसे बनवाया. पुलिस ने आशंका जताई है कि इनका गिरोह भी हो सकता है लेकिन ये सब आगे पूंछताछ के बाद ही सामने आ पायेगा.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share