सिखों की आस्थाओं को क्रूरता से कुचला गया पाकिस्तान में.. तोड़ा गया ऐतिहासिक गुरु नानक महल, बेच दिए खिड़की-दरवाजे

इमरान खान के नए पाकिस्तान की झलक दुनिया ने एक बार फिर देखी है..वो नया पाकिस्तान जहाँ गैर मुस्लिम समुदाय की आस्थाओं को, उनकी आस्था के प्रतीकों की कद्र नहीं होती बल्कि उन्हें मजहब के वशीभूत होकर क्रूरता से कुचल दिया जाता है. पाकिस्तान की ऐसी ही नापाक हरकत एक बार फिर सामने आई है. खबर के मुताबिक़, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में कुछ स्थानीय लोगों ने ऐतिहासिक गुरुनानक महल के एक बड़े हिस्से को तोड़ दिया है.

प्राप्त हुई जानकारी के मुताबिक़, सरकारी विभाग के अधिकारियों की मौन सहमति के बाद स्थानीय लोगों ने महल में तोड़फोड़ की है. इतना ही नहीं महल की कीमती खिड़कियों और दरवाजों को भी तोड़कर लोगों ने बेच दिया. पाकिस्तान के स्थानीय अखबार डॉन की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस चार मंजिला इमारत की दीवारों पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक के अलावा हिंदू शासकों और राजकुमारों की तस्वीरें थीं. रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि ‘बाबा गुरु नानक महल’ चार सदी पहले बनाया गया था और भारत समेत दुनियाभर से सिख समुदाय के लोग इसे देखने आया करते हैं.

बताया गया है कि प्रांतीय राजधानी लाहौर से करीब 100 किलोमीटर दूर नारोवाल शहर में बने इस महल में 16 कमरे थे और हर कमरे में कम से कम तीन दरवाजे और कम से कम चार रोशनदान थे. इसे सिख लोग काफी पवित्र मानते थे. रिपोर्ट में बताया गया है कि औकाफ विभाग के अधिकारियों की कथित मौन सहमति से स्थानीय लोगों के एक समूह ने महल को आंशिक रूप से ध्वस्त कर दिया और उसकी कीमती खिड़कियां, दरवाजे और रोशनदान भी बेच दिए. प्राधिकारियों को इस महल के ‘मालिक’ के बारे में कोई जानकारी नहीं है.

Share This Post