अब अमेरिका की मस्जिद में लगी आग.. फिर मिली एक चिट्ठी और जिसमें लिखी थी नफरत की आग

न्यूजीलैंड की 2 मस्जिदों में हुई गोलीबारी के बाद उभर कर सामने आई नफरत की आग काफी तेजी से फैलती जा रही है. न्यूजीलैंड के बाद कई देशों से ऐसे मामले सामने आये हैं जहाँ मस्जिदों को निशाना बनाया गया है. ऑस्ट्रेलिया में एक मस्जिद को निशाना बनाया गया तो हाल ही में ब्रिटेन की 5 मस्जिदों में तोड़फोड़ की गई. अब ताजा मामला अमेरिका के दक्षिणी कैलिफोर्निया से सामने आया है जहाँ की एक मस्जिद में आगजनी की घटना हुई है.

न्यूजीलैंड मस्जिद हमले के बदले हिंदुस्तान में हमले की फिराक में इस्लामिक आतंकी दल ISIS तथा अलकायदा.. ख़ुफ़िया एजेंसियों ने जारी किया अलर्टन्यूजीलैंड मस्जिद हमले के बदले हिंदुस्तान में हमले की फिराक में इस्लामिक आतंकी दल ISIS तथा अलकायदा.. ख़ुफ़िया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट

अमेरिका के दक्षिणी कैलिफोर्निया की मस्जिद में आगजनी की घटना कोई मामूली नहीं है बल्कि यह उस नफरत की आग की तीव्रता का साफ़ संकेत है जिसके एक छोर पर ईसाई खड़े हैं तो दूसरे पर मुसलमान. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि जांचकर्ताओं को घटनास्थल से एक चिट्ठी भी मिली है जिसमें न्यूजीलैंड में हुए आतंकी हमले का जिक्र किया गया है. पुलिस ने रविवार को बताया कि घटना में कोई भी जख्मी नहीं हुआ है. उन्होंने बताया कि इस्लामिक सेंटर ऑफ एस्कोंदिदो के सदस्यों ने दमकल कर्मियों के पहुंचने से पहले ही आग को बुझा दिया था.

एक और आवाज भारत की सेना के खिलाफ.. चुनाव से पहले फिर पाकिस्तान परस्ती और निशाना विंग कमांडर अभिनंदन पर

पुलिस लेफ्टिनेंट क्रिस लिक ने बताया कि पार्किंग स्थल से एक पत्र मिला है जिसमें इस महीने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों पर हुए हमले का जिक्र है. इस हमले में 50 लोगों की मौत हो गई थी. उन्होंने इस बात की ज्यादा जानकारी नहीं दी कि पत्र में क्या लिखा है. जांचकर्ताओं ने संदिग्ध के बारे भी जानकारी साझा नहीं की. पुलिस ने KNSD टीवी को बताया कि घटना के समय मस्जिद में 7 लोग मौजूद थे. उन्होंने दमकलकर्मियों के पहुंचने से पहले अग्निशामक से आग को बुझा दिया. अधिकारियों ने बताया कि घटना की जांच आगजनी और घृणा अपराध की आशंका के तौर पर की जा रही है.

भारतीय सैनिकों का दुश्मन बना बैठा था दिल्ली का परवेज.. काम करता था पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के लिए

Share This Post