Breaking News:

एक ऐसा देश जहां कानून का गिरता है सब पर कहर. राष्ट्रपति को भी मिली कठोर सजा….

भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के मामलों में ब्राजील आज भी अपने रुख पर कायम है। ब्राजील के कई नेताओं को इस आरोप से घिरे जाने के बाद इस्तीफा देना पड़ा है। एक बार फिर ब्राजील के राष्टपति उम्मीदवार लूला डा सिल्वा पर भ्रष्टाचार के आरोप में साढ़े नौ साल की जेल काटेंगे। अगले साल के राष्ट्रपति चुनाव में वापसी का प्रयास कर रहे वामपंथी नेता लूला डा सिल्वा के लिए यह फैसला एक करारा झटका है।
ब्राजील के पूर्व राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डा सिल्वा को भ्रष्टाचार का दोषी पाते हुए वहां की अदालत ने नौ साल और छह महीने जेल की सजा सुनाई है। इससे पहले उन्होंने अदालत के सामने करीब एक करोड़ डॉलर और एक अपार्टमेंट रिश्वत के रूप में लेने की बात मानी थी। हालांकि, अदालत ने 71 वर्षीय पूर्व राष्ट्रपति को फैसले के खिलाफ अपील करने की छूट दे दी। इस पर उनके वकील ने कहा कि वे इस निर्णय के खिलाफ जरूर अपील करेंगे।  
जानकारों के अनुसार, इस फैसले से ब्राजील के नेताओं को भ्रष्टाचार के मोर्चे पर साफ संदेश जाएगा। वहां की मौजूदा राष्ट्रपति मिशेल टेमर और उनके कई मंत्रियों पर भी रिश्वत लेने के आरोप लगे हैं। इन्हीं आरोपों के चलते वहां के कई मंत्रियों को इस्तीफा तक देना पड़ा है। लूला डा सिल्वा 2003 से 2010 तक ब्राजील के राष्ट्रपति रहे हैं। वे ब्राजील के साथ अन्य लैटिन अमेरिकी देशों में वामपंथी राजनीति के चेहरे के रूप में काफी लोकप्रिय रहे हैं। लेकिन इस फैसले से सत्ता में वापसी के उनके प्रयासों को करारा झटका लगा है। ब्राजील में अगले साल अक्टूबर में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं। 
Share This Post