Breaking News:

कुछ गद्दार हमला कर के बाद में जिम्मेदारी लेते हैं, पहली बार बता कर बरसाईं गोलियां. वो भी सीधे प्रधानमन्त्री को

इस से पहले तमाम ऐसी घटनाएँ आपकी जानकारी में आई होंगी जब एक वर्ग विशेष के आतंकियों ने चुपके से हमला कर के तमाम बेगुनाहों की जान ले डाली और बाद में कहीं छिप कर उस हमले की जिम्मेदारी लेते हुए कहा कि ये हमला उन्होंने किया है . उसी के बाद उन हमलो को दुनिया में कायराना हरकत कहा जाता था .. लेकिन अब जो कुछ भी न्यूजीलैंड में हुआ उसने तो हमलों की पूरी तरह से परिभाषा ही बदल कर रख दी है और शुरुआत कर दी है एकदम नए अंदाज़ की ..

जरा सोचिये उसके मन में चल रहे उस आक्रोश हो जो हमला करने से पहले ही कोई जिम्मेदारी ले रहा हो और कह रहा हो कि वो थोड़ी देर में हमला करने वाला है उसको रोक सको तो रोक लो.. इतना ही नही , ये जिम्मेदारी किसी आम पुलिस वाले के आगे नहीं बल्कि सीधे सीधे उस देश के सर्वोच्च पद पर बैठे व्यक्ति को बता कर ली जाय और आख़िरकार अपनी बात पर खरा उतरे .. न्यूजीलैंड के हमलावर ने हमले से पहले पूरी सूचना दी और फिर हमला किया था जिसको कोई रोक नहीं पाया ..

असल में न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री के लिए समस्या का विषय यही है कि ये हमला उनको बता कर किया गया जिसको वो चाह कर भी नहीं रोक पाई . हमले से ठीक पहले उनको हमलावर ने बाकयदा घोषणा पत्र भेजा था जिसको उन्होंने साजिश से भरा हुआ बताया है . बाद में जुमे की नमाज के दौरान दो मस्जिदों में हुए हमले में मारे गए 50 लोगों में पांच भारतीय भी शामिल हैं. न्यूजीलैंड के प्रधानमन्त्री ने बताया कि हमले की चेतावनी मिलने के फ़ौरन बाद २ मिनट के अन्दर ही सुरक्षा एजेंसियों और ख़ुफ़िया एजेंसियों को ये जानकारी दे दी गयी थी लेकिन जब तक वो कुछ भी कर पाते तब तक बंदूकधारी ने लाशों का ढेर लगा दिया था .

Share This Post