Breaking News:

आतंक को बढ़ाने के लिए अब फंड इकट्ठा नहीं कर पाएगा हाफिज़ सईद, प्रतिबंध हुआ आतंकी संगठन


वाशिंगटन : 26/11 मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद के संगठन जमात-उद दावा समूह पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह प्रतिबंध आतंकवादियों के नेतृत्व और धन इकट्ठा करने वाले नेटवर्कों को तबाह करने के प्रयास के लिए लगाया गया है।

इसमें लश्कर-ए-तैयबा, जमात-उद दावा, तालिबान, जमात-उल-दावा अल कुरान (जेडीक्यू) और इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया और आईएसआईएस शामिल है। आपको बता दें कि अमेरिका ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान में मौजूद आतंकियों संगठनों की ओर से हमले को लेकर भारत और अफगानिस्तान को चेताया था। खोरासन एक ऐतिहासिक क्षेत्र है जिसमें उत्तर पूर्वी ईरान का बड़ा क्षेत्र, दक्षिणी तुर्कमेनिस्तान, उत्तरी अफगानिस्तान और भारत का हिस्सा शामिल है।

यह बैन विशेष तौर पर हयातुल्ला गुलाम मोहम्मद (हाजी हयातुल्ला), अली मोहम्मद अबू तुरब, वेलफेयर एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ जमात-उद-दावा फॉर कुरान एंड सुन्ना (डब्ल्यूडीओ) के लिए कथित तौर पर पैसा इकट्ठा करने वाले संगठन इनायत-उर रहमान पर लगाया गया है। इन सब के अलावा हयातुल्लाह जमात-उद-दावा और लश्कर के लिए काम कर रहा था, साथ ही तालिबान, आईएस, आईएस खुरासान को मदद पहुंचा रहा था।

जबकि अबु तुराब खाड़ी देशों से पाकिस्तान को हवाला का धन पहुंचाने का काम करता है। इनायत भी लश्कर और तालिबान के लिए काम कर रहा था। ये लोग आतंकियों की भर्ती में भी मदद पहुंचा रहे थे। गौरतलब है कि हाफिज सईद पिछले तीन महीने से अपने घर में नजरबंद है। 30 अप्रैल को 90 दिनों की उसकी नजरबंद की मियाद खत्म हो रही थी। पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने देश के आतंकरोधी कानून के तहत सईद और उसके 4 सहयोगियों के नजरबंद की अवधि को बढ़ाने का फैसला लिया।    


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...