500 लोगों को बचाया गया एक इस्लामिक स्कूल से, जिसमें 100 तो बंधे थे जंजीर से

जिसने भी इस घटना के बारे में सुना, उसके रौंगटे खड़े हो गये. इस इस्लामिक स्कूल में लोगों को भर्ती कराया गया था कुरआन सिखाने के लिए लेकिन वहां उनके साथ जो किया गया, वो भयावह था.  मामला नाइजीरिया के कडुना का है जहां इस्लामिक स्कूल से 500 लोगों को पुलिस ने रेस्क्यू किया है. इसमें 100 से ज्यादा लोगों को जंजीर से बांधकर रखा गया था. कडुना के पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि इनमें काफी संख्या में नाबालिग बच्चे शामिल हैं. बंधक बनाकर रखे गए छात्रों ने बताया कि स्टाफ मेंबर उनके साथ रेप करते थे.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कडुना के पुलिस प्रमुख अली जंगा ने बताया है कि एक अज्ञात व्यक्ति ने इमारत में संदिग्ध गतिविधि की जानकारी दी थी. इसके बाद यहां छापा मारा गया. पुलिस प्रमुख ने घटनास्थल को हाउस ऑफ टॉर्चर करार दिया. पुलिस ने कहा कि रेस्क्यू किए गए कई लोग घायल थे, जबकि कई भूखे थे. कुछ लोगों ने बताया कि उन्हें सालों से यहां रखा गया था और बाहर जाने की आजादी नहीं थी. एक युवक ने बताया कि 3 महीने से उनके पैरों में जंजीर बंधे थे. अगर कोई व्यक्ति यहां से भागने की कोशिश करता तो उसे सीलिंग फैन से लटका दिया जाता था.

कडुना के पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि लोगों को यहां कुरान की शिक्षा देने के नाम पर रखा गया था. पैरेंट्स को लगता था कि वे बच्चों को सुधारने और कुरान की शिक्षा देने के लिए यहां भेज रहे हैं. कई लोगों से ड्रग और बीमारियों से छुटकारा दिलाने का वादा भी किया गया था. कडुना के पुलिस प्रवक्ता याकुबू सबो ने कहा टीचर्स सहित आठ संदिग्धों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक, रेस्क्यू किए गए लोग अलग-अलग देशों के नागरिक हैं. एक पीड़ित ने बताया कि कुछ छात्र यहां टॉर्चर की वजह अपना दम तोड़ चुके है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share