सामने से लड़ने की हिम्मत न हुई तो लिया धोखे का सहारा… आतंकियों ने 60 अफगानीस सैनिक मारे

अफगानिस्तान : उत्तरी अफगानिस्तान के शहर मजार-ए-शरीफ के नज़दीक स्थित सैन्य ठिकाने पर हुए तालिबान के हमले में लगभग 60 से ज़्यादा अफगान सैनिक मारे गए हैं। अमेरिकी जनरल जॉन निकोलसन ने बयान में कहा है कि हमले में एक मस्जिद में नमाज अदा कर रहें जवानों पर अफगान सेना की 209 कोर के भोजनालय में सैनिक जुमे की नमाज अदा कर रहें थे, तभी तालिबानियों ने उन पर हमला कर दिया। 
जनरल जॉन निकोलसन ने बताया कि इस हमले में हमलावरों की संख्या 10 थी और सभी हमलावर अफगान में सेना की वर्दी में थे। बता दें कि तालिबान ने एक बयान जारी कर इस हमले की जिम्मेदारी ली है। सुत्रों के मुताबिक, यह हमला बल्ख प्रांत में हुआ, जो शुक्रवार शाम तक चलता रहा। हमले के दौरान अफगानी अधिकारियों ने बताया कि इस हमले में एक आत्मघाती सहित 5 हमलावार मारे गए हैं। 
अधिकारी ने बताया कि लड़ाके अफगानी आर्मी की यूनिफॉर्म में आए थे। उन्होंने मजार-ए-शरीफ के आर्मी कैंप पर हमला बोल दिया। हैरानी की बात यह है कि अफगानिस्तान आर्मी की यूनिफॉर्म पहने इन लड़ाकों को चेकपोस्ट पास करने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं आई। आर्मी कैंप बड़ी आसानी से घुसने के बाद लड़ाके अफगानी ने हमला कर दिया, हमले के दौरान डिफेंस मिनिस्ट्री के प्रवक्ता ने बताया कि हमलावार आर्मी कैंप के बहुत नज़दीक पहुंच गये। 
राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW