मेरी जगह कोई और होता तो अब तक हर्ट अटैक से मर चुका होता- इमरान खान

आतंकी मुल्क पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की हालात इस समय क्या हो रखी है, इसकी बानगी उनके ही एक बयान में दिखाइ दी है. एकतरफ भारत सरकार द्वारा पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग किये जाने तो वहीं पाकिस्तान की गिरी हुई आर्थिक हालत को लेकर इमरान मियां तनाव में गुजर रहे हैं. कल मंगलवार को काउंसिल आन फॉरेन अफेयर्स (CFR) के संबोधन के दौरान इमरान खान ने कहा कि उनको इतनी दिक्कतें हैं कि उनकी जगह अगर कोई और होता तो उसे हार्ट अटैक हो गया होता.

इमरान ने इस दौरान कहा कि पाकिस्तान कई मोर्चों पर चुनौतियों का सामना कर रहा है. इसमें अर्थव्यवस्था की खराब स्थिति भारत, अफगानिस्तान और अन्य पड़ोसी देशों के साथ संबंध प्रमुख चुनौतियां हैं. उन्होंने इस दौरान यह भी कहा, ‘आपको पता है 13 महीने पहले ही पाकिस्तान में बनी सरकार देश की सबसे बड़ा आर्थिक संकट से निपटने की कोशिश कर रही थी, तभी पड़ोसी देश अफगानिस्तान और भारत के साथ संबंध खराब हो गए. इसके बाद इमरान ने कहा, ‘अगर आप मेरी जगह होते तो क्या करते? अब-तक आपको हार्ट अटैक आ जाता.

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने कार्यक्रम के एंकर से ये बातें कही. उन्होंने कहा, ‘मैं क्या करूं एक तरफ अफगानिस्तान की समस्या चल रही है. ईरान की समस्या चल रही है. चीन भी चिढ़ा हुआ है. अब देखिए भारत के साथ भी दिक्कतें शुरू हो गई हैं. ऐसे में अगर आप भी मेरी जगह होते ना, तो आपको हार्ट अटैक आ जाता.’ इमरान खान ने कहा, ‘पाकिस्तान के सामने इतनी गंभीर चुनौतियां हैं कि मैं परेशान रहता हूं. यह तो क्रिकेट खेलने के दौरान सीखे गए मुश्किल और कड़ी मेहनत के तौर तरीकों की वजह से मैं ठीक-ठाक हूं. खेल के दौरान मिली सीख से ही संभव हो सका है कि मैं दृढ़तापूर्वक इन चुनौतियों का सामना करने और इनसे निपटने की कोशिश कर रहा हूं.’

इमरान खान ने आगे कहा कि कुछ मामलों से निपटने के लिए उनके पास वह पावर नहीं है, जो चीन के शासकों के पास होती है. उन्होंने कहा कि चीन हमारे लिए प्रगति की मिसाल है. उसने अपने करोड़ों नागरिकों को गरीबी से बाहर निकाला है. इमरान ने कहा, ‘अगर मेरे पास भी उनके जैसे आदेश जारी करने की शक्ति हो, तो मैं भी देश से गरीबी और भ्रष्टाचार खत्म कर दूं.’ उन्होंने कहा कि अगर उनके पास का चीनी मॉडल की तरह देश चलाने को मिलता तो वे अब-तक लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाल दिए होते.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share