भारत की विधानसभा में मिल रही है बारूद तो ताइवान के संसद में चल रहे हैं लात-घूसे….

जनता के द्वारा चुने गए जनप्रतिनिध अक्सर सदन में झगड़ा कर सदन की गरिमा कलंकित करते है। संसद और विधानसभा में सांसदों और विधायकों के व्यवहार को लेकर अपने देश में तो सवाल उठते ही रहे है। लेकिन ताइवान की संसद से एक बेहद चौंकाने वाला नजारा सामने आया है। यहां संसद भवन में पक्ष और विपक्ष के सांसद एक-दूसरे से भिड़ गए। इतना ही नहीं इस दौरान संसद की महिला सदस्य भी एक-दूसरे से उलझ गईं। ताइवान में एक इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के विरोध में विपक्षी दलों ने जबर्दस्त हंगामा किया। 
हंगामे के दौरान दोनों तरफ से एक दूसरे पर कुर्सियां फेंकी गई। वॉटर बैलून से भी हमला किया गया। प्लेकार्ड और पर्चियों से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन में मारपीट और लात-घूसों की बारिश शुरू होने लगी। विवाद तब बढ़ा जब कुओमिंतांग के सांसदों ने फॉरवर्ड दिखने वाले बुनियादी ढांचा विकास कार्यक्रम के बजट प्रस्तावों की आलोचना की। इसके बाद सांसदों ने एक-दूसरे से हाथापाई शुरू कर दी। एक दूसरे को खिंचना और हिलाना शुरू किया। एक दूसरे पर पानी के वॉटर बैलून से हम ला किया गया।
पिछले साल सरकारी छुट्टियां घटाने को लेकर ताइवान की संसद में विपक्षी पार्टी ने जमकर हाथापाई हुई थी। इसमें कई लोग घायल हो गए थे। ताइवान की रूलिंग डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (DPP) ने एक अमेंडमेंट बिल पास किया था। इस बिल में 7 सरकारी छुट्टियां कम कर दी गई थी, जिसके चलते ये हंगामा हुआ था। अपोजिशन पार्टी कुओमिंतांग के मेंबर्स ने इसका विरोध शुरू कर दिया। पार्टी का कहना था कि रूलिंग डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी ने पब्लिक हॉली-डे घटाकर वर्कर्स के साथ धोखा किया है। सदन में किसी भी मसले पर शांतिपूर्ण तरीके से हल निकाला जा सकता है पर सदन के अंदर यूँ जनप्रतिनिधियो का झगड़ा कर देश को कलंकित और शर्मसार करता है। 
Share This Post