एक दूसरे से ही उलझ गए हैं शिया व सुन्नी मुल्क.. आपस मे ही बोल रहे -” तू आतंकी, तू आतंकी

आतंकवाद काफी समय से एक ऐसा मुद्दा बन चुका हैं जिससे कोई भी देश अछूता नही हैं। आतंकवादी हर देश में कही न कही पर हिंसात्मक घटना को अंजाम देते रहता है। अगर बात की जाये पिछले कुछ दशकों की तो आतंकवाद विश्व के सामने एक सबसे बड़ी चुनौती बन के उभरा है। हर वर्षं हजारों मासूम आतंकवादियों के आतंक के कारण मारे जाते है, अनगिनत लोगों का घर बार-बार उजड़ जाता हैं।

पिछलें कई दिनों से पाकिस्तान ने अपने आतंकवाद के कारण दुनिया को परेशान करके रखा हुआ हैं और आये दिन जिहाद जैसे अनगिनत मुद्दो को उठाकर लोगों की जान लेता था। पाकिस्तान की राह पर अब एक और देश भी चला पड़ा है जो इस समय केवल लोगों को परेशान कर रहा हैं अपने आतंक के कारण। हम बात करे रहे है सऊदी अरब की जो पाकिस्तान की रूख पर चल पड़ा है। ईरान ने सऊदी अरब पर यमन में आतंकवाद को समर्थंन देने का आरोप लगाया हैं।
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सरकारी टीवी का समर्थंन तेहरान और रियाद के बीच संबंधो में सुधार की मुख्य बाधाएं है और सऊदी अरब को आतंकवादियों का समर्थंन करना बंद कर देना चाहिए। उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब और ईरान के नेतृत्व वाली शिया समुदाय मध्य पूर्व एशिया में अपनी शक्ति दिखाने के लिए प्रतिस्पर्धां करते है जहां वे यमन, सीरिया, इराक, और लेबनान में प्रतिद्वंद्वी समूहों का समर्थंन करते हैं। आतंकवाद से होने वाली घटनाओं से न केवल मानवता का हनन होता हैं बल्कि आतंकवाद विश्व का एक सबसे बड़ा कल्ला धब्बा हैं जिससे आतंकवादी मिलकर अंजाम देते हैं लोगों को क्षति पहुचानें के लिए।
Share This Post

Leave a Reply