फिलिस्तीनी पत्थर का जवाब फिर इजराइली गोली से आया.. सदा के लिए खामोश हुए 6 पत्थरबाज और उन्हें खामोश करने वाले सैनिक बने राष्ट्रीय सैनिक

मजहबी चरमपंथ के खिलाफ हमेशा से रौद्र रुख अख्तियार करने वाली इजराइली सेना की बंदूकें फिलिस्तीनी उन्मादियों के खिलाफ एक बार फिर से गरज उठी. गाजा पट्टी में इजराइली सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी कर रहे 6 फिलिस्तीनी पत्थरबाजों को इजराइली सेना ने लाश में बदल दिया. इस घटना के बाद दोनों के बीच तनाव बढ़ गया है. इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के कार्यालय ने कहा कि वह पेरिस की यात्रा को बीच में ही समाप्त करके स्वदेश लौट रहे हैं। वह प्रथम विश्व युद्ध के सौ साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने पेरिस गये थे.

इज़राइली सेना ने पुष्टि की कि संघर्ष के दौरान उनके एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य घायल हो गये. इज़राइली सेना ने एक बयान में कहा, ‘‘गाजा पट्टी में अभियान के दौरान दोनों तरफ से गोलीबारी हो गई. इस घटना में आईडीएफ के एक अधिकारी की जान चली गई और एक अतिरिक्त अधिकारी मामूली रूप से घायल हो गये. फलस्तीनी सुरक्षा सूत्रों ने बताया कि यह मुठभेड़ दक्षिणी गाजा पट्टी में खान यूनिस के पूर्वी इलाके में हुई है. गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल-कुद्र ने बताया कि छह फलस्तीनी मारे गए हैं. एक स्थानीय अस्पताल ने बताया कि मरने वालों में हमास के सशस्त्र विंग ‘एजेदीन अल-कासम ब्रिगेड’ का एक स्थानीय कमांडर भी था.

संघर्ष के बाद, दक्षिणी इज़राइल में साइरन बजने की सूचना मिली, जो गाजा पट्टी से संभावित रॉकेट हमले का संकेत है. इज़राइली सेना के प्रवक्ता जोनाथन कॉनरिकस ने बताया कि अभियान में शामिल सभी इज़राइली सैनिक इज़राइल लौट आए हैं. गाजा पट्टी में इस्लामी आंदोलन चलाने वाले हमास के प्रवक्ता फॉजी बारहम ने “भयावह इजरायली हमले” की निंदा की वहीं इजराइल का कहना है कि देश के दुश्मनों के खिलाफ इजराइली सेना ऐसा ही सलूक करेगी.

Share This Post