Breaking News:

मौत का खेल जारी रखेगा इस्लामिक स्टेट.. अब ये है उसका नया सरगना


यदि आतंकवाद की जड सिर्फ बगदादी होता तो निश्चित तौर पर अब तक आतंकवाद खत्म हो चुका होता उसके दफन होते ही.. इस से पहले आतंकवाद की जड ओसामा बिन लादेन को माना जाता था और उसकी मौत के बाद ये माना जा रहा था कि आतंकवाद पर लगाम लगेगी लेकिन वो बढ़ता ही चला गया.. अब बगदादी की मौत के बाद दुनिया भर में छाई ख़ुशी अचानक ही तब काफूर हो गई जब इस्लामिक स्टेट ने अपने नए मुखिया का बाकायदा नाम घोषित कर के खून की होली जारी रखने का एलान किया.

ध्यान देने योग्य है की भले ही ताजा और नए दावे में अमेरिकी फ़ौज के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का दावा हो की उन्होंने इस्लामिक स्टेट के प्रमुख बगदादी को मार गिराया है लेकिन इस्लामिक स्टेट ने भी इस लड़ाई को आगे जारी रखने का एलान कर दिया है.. इस्लामिक स्टेट ने अपना नया मुखिया उस आतंकी को घोषित किया है जिसने इस से पहले सद्दाम हुसैन की खूनी और रक्तपिपासु सेना का बेहद ही निर्दयता के साथ नेतृत्व किया था .. इसके बाद ये माना जा रहा है की आतंकवाद से लड़ाई अभी लम्बी चलेगी..

अन्तराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आतंकी संगठन ISIS की कमान सद्दाम हुसैन की सैना के पूर्व अधिकारी अब्दुल्ला कार्दश को सौंपी गई है. इस से पहले अपनी आतंकी हरकतों के चलते कार्दश इराक की जेल में था जिसमे बगदादी भी बंद था. आखिरकार उसी जेल में ही दोनों के रिश्ते बन गये थे और धीरे धीरे वो बगदादी का विश्वास जीत कर ISIS का मुख्य नीति-निर्माता बन गया। कार्दश को प्रोफेसर के तौर पर जाना जाता है।माना जाता है कि कार्दश ने बगदादी की मौत से पहले ही कई सारी जिम्मेदारियों को निभाना शुरू कर दिया था। उसे बगदादी के हवाई हमले में घायल होने के बाद अगस्त में उत्तराधिकारी नियुक्त किया गया था। इस दौरान बगदादी डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित था। बीमारी की वजह से वह कामकाज में हिस्सा नहीं ले रहा था। वह केवल किसी योजना को लेकर हां या न बोला करता था।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share